लखनऊ, जेएनएन। Lockdown Effect: लंबे समय से खपत ज्यादा माल कम होने की वजह से आसमान पर चढे़ नींबू के दाम लॉकडाउन में नीचे उतरने लगे हैं। दो दिनों से लगातार बैंगलौर से बनी आवक ने कोरोना काल में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाले नींबू का भाव गिरा दिया है। हाल यह है कि फुटकर मंडी में नींबू के दाम 100 से 120 रुपये किलो तक आ गए हैं। जो पहले 200 रुपये किलो तक था। बीते माह में नींबू की कीमत थोक मंडी में करीब 9000 से 10000 रुपये क्विंटल पहुंच गई थी। अप्रैल माह के दूसरे पखवारे में नींबू के दाम घटकर 5000 से 6000 रुपये क्विंटल तक पहुंच गए थे।  

दो दिनों में बढ़ी आवक: पहले दोनों मंडियों में बमुश्किल 70 से 80 क्विंटल की आवक थी। बीते सोमवार को 250 क्विंटल और मंगलवार को 110 क्विंटल से अधिक की आमद हुई है। दो दिनों में कुल मिलाकर 360 क्विंटल से अधिक नींबू राजधानी की मंडियों में पहुंच चुका है।

फुटकर मंडी में सब्जी-फल -भाव पहले- अब रुपये प्रति किलो

नींबू-150 से 180 - 100 से 120

मौसमी-90 से 100 -70 से 80

थोक मंडी में सब्जी-फल भाव -पहले- अब रुपये प्रति क्विंटल

नींबू -5000 से 6000

मौसमी -4000 से 5000

कोरोना काल में सब्जिंयों के दाम घट

सब्जी - पहले -अब रेट प्रति किलो

कद्दू -30 -20

भिंडी-30 से 40 -20 से 30

लौकी-40 -30

टमाटर -40 -20

धनिया -120 -80

अदरख -100 -60

मंडी सचिव संजय सिंह के मुताबिक, आवक बढ़ते ही माल के दामों में कमी आना स्वाभाविक है। मंडी में इन दिनों सर्वाधिक डिमांड वाले नींबू की एक बड़ी खेप दो दिनों में पहुंच गई है। इससे भाव काफी कम हुए हैं। मौसमी के भाव में भी गिरावट दर्ज की गई है। पहले की तुलना में बाकी सब्जियां सस्ती हैं।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप