लखनऊ, [दुर्गा शर्मा]। क्या कोरोना संक्रमण मां से बच्चे में भी फैल सकता है? क्या संक्रमित मां स्तनपान करा सकती है? इस तरह के तमाम सवाल और भ्रांतियां स्तनपान से जुड़ी हैं। एक अगस्त से शुरू हो रहे विश्व स्तनपान सप्ताह पर दैनिक जागरण साप्ताहिक अभियान सात दिन, सात भ्रांतियां प्रारंभ कर रहा है। हर दिन एक भ्रांति को विशेषज्ञों के हवाले से दूर करने का प्रयास किया जाएगा। 

भ्रांति: कोविड संक्रमित मां के स्तनपान से बच्चे को संक्रमण का खतरा होता है।

एक्सपर्ट सलाह: एहतियात के साथ संक्रमित मां भी स्तनपान करा सकती है। 

इसलिए जरूरी स्तनपान

  • मां का दूध नवजात को बीमार होने से बचाता है।
  • मां के दूध में मौजूद एंटीबॉडी बच्चे की रोग प्रतिरोधक शक्ति को बढ़ाता है।

स्तनपान कराएं सावधानी के साथ

  • मां को बुखार, खांसी या सांस लेने में तकलीफ जैसे लक्षण हैं, तो वह तुरंत डाक्टर से संपर्क करें।
  • खांसते और छींकते समय अपने मुंह को रुमाल या टिश्यू से ढकें।
  • छींकने और खांसने के बाद बच्चे को दूध पिलाने से पहले और बाद में अपने हाथों को साबुन से 40 सेकेंड तक धोएं। बच्चे के संपर्क में हों तो मास्क पहनें।

ध्यान रखें

  • मां अगर स्तनपान नहीं करा सकती है तो वह अपना दूध साफ कटोरी में निकाल सकती है और चम्मच से बच्चे को पिला सकती है।
  • दूध निकालने से पहले हाथों को साबुन व पानी से 40 सेकेंड तक धोएं।

यदि मां स्तनपान कराने व दूध निकालने के लिए बहुत बीमार है, तो वह :

  • एक अवधि के बाद फिर से अपना दूध पिलाना शुरू करे।
  • बच्चे को दूध पिलाने व उसकी देखभाल के लिए किसी अन्य महिला की मदद लें।

विशेषज्ञों की राय

बच्चे के लिए स्तनपान से अच्छा कोई विकल्प है ही नहीं। अगर मां को कोई बीमारी या बुखार है तो भी उसको स्तनपान मना नहीं होता है। कोविड संक्रमण में भी यह पाया गया कि अगर मां सावधानी बरत कर स्तनपान कराती है तो उससे बच्चे को फायदा ही होता है। ब्रेस्ट हाइजीन का ध्यान रखें। -प्रो उमा सिंह, विभागाध्यक्ष एवं डीन, चिकित्सा संकाय, क्वीन मेरी अस्पताल।

मां का दूध संक्रमण के साथ ही डायरिया और निमोनिया जैसी बीमारियों से बचाता है। स्तनपान करने वाले बच्चों में मधुमेह, हृदय रोग, अस्थमा आदि का खतरा कम होता है। कोविड के समय में भी स्तनपान के लिए प्रोत्साहित किया गया। -डा. ऋचा सिंह पांडेय, पोषण विशेषज्ञ, यूनिसेफ उप्र।

Edited By: Vikas Mishra