लखनऊ, जेएनएन। जम्मू-कश्मीर में हाल के दिनों में बढ़ी आतंकी गतिविधियों को ध्यान में रखते हुए वहां सख्ती बढ़ा दी गई है। अचानक बढ़ी आतंकी घटनाओं को रोकने के लिए कई कदम उठाए गए हैं। इसी कड़ी में वहां की जेलों में बंद हार्डकोर आतंकियों को दूसरे राज्यों की जेलों में शिफ्ट किए जाने का सिलसिला भी शुरू किया गया है। कश्मीर घाटी की अलग-अलग जेलों में बंद 26 आतंकियों का पहला ग्रुप शुक्रवार को उत्तर प्रदेश की आगरा सेंट्रल जेल भेजा गया है। आशंका है कि इन आतंकियों का कश्मीर में हो रहे हमलों में हाथ हो सकता है।

कुछ दिनों में कश्मीर घाटी के अंदर आतंकी हमलों में तेजी आई है। आतंकी घाटी में गैर-कश्मीरियों को निशाना बना रहे हैं। ऐसे में सुरक्षाबल पूरी सतर्कता के साथ काम कर रहे हैं। जम्मू-कश्मीर में आतंक के खिलाफ जारी अभियान के तहत बड़ी कार्रवाई की गई है। जम्मू-कश्मीर की अलग-अलग जेलों में बंद 26 हार्डकोर आतंकियों को उत्तर प्रदेश की आगरा सेंट्रल जेल में शिफ्ट किया गया है। इनके अलावा और भी कुछ आतंकियों को कश्मीर से बाहर की जेल में शिफ्ट किया जा सकता है।

सूत्रों द्वारा बताया जा रहा है खुफिया एजेंसी ने जम्मू-कश्मीर की जेलों में बंद 100 आतंकियों की लिस्ट तैयार की है, जो सुरक्षा बलों की तरफ से तैयार की गई ए और बी कैटेगरी के आतंकियों की लिस्ट में शामिल हैं। 30 आतंकी ए कैटेगरी में जबकि 70 आतंकी बी कैटेगरी में रखे गए हैं। ये आतंकी जेल में रहकर भी बाहर अपने स्लीपर सेल के साथ लिंक जोड़े हैं। यह जानकारी मिली है कि हाल ही में आतंकी घटनाओं को जेल में बंद ऐसे ही आतंकियों ने अपरोक्ष तरीके से स्लीपर सेल के जरिए अंजाम दिया है या घटना को अंजाम देने वाले आतंकियों की मदद अपने स्लीपर सेल से कराई है।

17 अक्टूबर को भेजे गए थे 15 बंदी आगरा जेल : जम्मू-कश्मीर की जेलों से पांच दिन पहले ही 15 बंदियों आगरा केंद्रीय कारागार दाखिल किया गया है। जम्मू-कश्मीर में टारगेट किलिंग के चलते वहां सख्ती बढ़ा दी गई है। राज्य विरोधी ताकतों को जम्मू-कश्मीर पुलिस द्वारा लोक सुरक्षा अधिनियम (पीएसए) के तहत गिरफ्तार किया जा रहा है। इन बंदियों को दूसरे राज्यों की जेलों में स्थानांतरित किया जा रहा है। जिसके तहत 17 अक्टूबर को 15 कश्मीरी बंदियों को आगरा केंद्रीय कारागार भेजा गया था। इन बंदियों के आने से पहले यहां पर पाक अधिकृत कश्मीर के भी दो बंदी निरुद्ध हैं। जिन्हें हाई सिक्योरिटी सेल में रखा गया है।

बंदियों को विशेष बैरक में रखने की व्यवस्था : आगरा केंद्रीय कारागार की हाई सिक्योरिटी सेल में पहले से ही बंदी निरुद्ध हैं। जिसके चलते 17 अक्टूबर को यहां भेजे गए बंदियों को विशेष बैरक में रखा गया है। जम्मू-कश्मीर शासन द्वारा 26 और बंदियों को आगरा केंद्रीय कारागार भेजने की सूचना भेजी गई है। इन नए बंदियों को भी विशेष बैरक में रखा जाएगा। वरिष्ठ अधीक्षक केंद्रीय कारागार वीके सिंह ने बताया 26 और कश्मीरी बंदियों के यहां भेजने की जानकारी मिली है।

गृहमंत्री अमित शाह कल से जम्मू-कश्मीर दौरे पर : आतंकी गतिविधियों में एक माह के दौरान आई तेजी से उपजे हालात का जायजा लेने गृहमंत्री अमित शाह 23 अक्टूबर को श्रीनगर पहुंच रहे हैं। तीन दिवसीय दौरे के दौरान वह प्रदेश की सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेने के अलावा पंचायत प्रतिनिधियों व जन प्रतिनिधिमंडलों से मुलाकात करेंगे। 24 अक्टूबर को वह जम्मू में एक जनसभा को भी संबोधित करेंगे। गृहमंत्री के दौरे के मद्देनजर पूरे प्रदेश में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है। कई इलाकों में मोबाइल इंटरनेट सेवा को अगले आदेश तक बंद रखने के अलावा विभिन्न दोपहिया वाहन भी जब्त किए जा रहे हैं।

Edited By: Umesh Tiwari

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट