लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने कहा कि उत्तर प्रदेश में यूरिया की पर्याप्त उपलब्धता है। केंद्र सरकार ने अगस्त माह के लिए आवंटन भी कर दिया है। किसी जिले में खाद का संकट नहीं है। कृषि मंत्री ने कहा कि अवांछनीय तत्वों की ओर से अधिक दर पर यूरिया की बिक्री होने और यूरिया के साथ अन्य उर्वरक टैग करने के मामले सामने आने पर जिले के अधिकारी तत्काल एफआइआर दर्ज कराएं और जिलास्तर के अधिकारी बिक्री केंद्रों पर लगातार छापेमारी करें।

कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने मंगलवार को यूरिया आपूर्ति की समीक्षा करते हुए कहा कि हर जिले में कंट्रोल रूम स्थापित करके मिलने वाली शिकायतों का प्राथमिकता के आधार पर निस्तारण हो। किसी भी तरह की अनियमितता पाए जाने पर सख्त कार्रवाई की जाए। अगस्त माह में धान में यूरिया की टाप ड्रेसिंग कृषक करेंगे, इसलिए प्रबंध निदेशक पीसीएफ प्रीपोजीशनिंग योजना के तहत भंडार की गई यूरिया का 50 प्रतिशत साधन सहकारी समितियों को भेजा जाए।

कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने अपर आयुक्त सहकारिता को निर्देश दिया कि जहां एक सचिव कई समितियों से जुड़ें हों, उन समितियों पर सचिव की उपस्थिति का दिन व समय तय करके अंकित कराया जाए। ऐसे आदेश सभी जिलों को भेजे जाएं, ताकि किसान उर्वरक क्रय कर सकें। शाही ने कहा कि अगस्त माह तक आवंटित कुल यूरिया का 50 प्रतिशत 15 अगस्त तक जिलों में प्राथमिकता के आधार पर पहुंचाया जाए, ताकि कहीं कमी न रहने पाएं।

संयुक्त कृषि निदेशक उर्वरक ने बताया कि प्रदेश में 10.41 लाख मीट्रिक टन यूरिया उपलब्ध है। अगस्त माह के लिए केंद्र सरकार ने 9.50 लाख मीट्रिक टन यूरिया का आवंटन किया गया है। सहकारिता क्षेत्र में 2.29 लाख मीट्रिक टन यूरिया उपलब्ध है, 4.46 लाख मीट्रिक टन का आवंटन और किया गया है। समीक्षा में अपर मुख्य सचिव कृषि डा. देवेश चतुर्वेदी, कृषि निदेशक विवेक कुमार सिंह व प्रबंध निदेशक पीसीएफ आदि मौजूद थे।

Edited By: Umesh Tiwari