लखनऊ, जेएनएन। भ्रष्टाचार के खिलाफ त्वरित कार्रवाई करते हुए पुलिस कमिश्नर सुजीत कुमार पांडेय ने शुक्रवार को एक दारोगा को निलंबित कर दिया। यही नहीं आरोपित दारोगा के खिलाफ उन्होंने एफआइआर करने के निर्देश भी दिए, जिसके बाद वजीरगंज कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज की गई। इंस्पेक्टर वजीरगंज दीपक कुमार दुबे के मुताबिक मामले की छानबीन की जा रही है।

आरोप है कि तत्कालीन एसएसपी कार्यालय में तैनात दारोगा रुद्रप्रताप सिंह (लेखा) ने आपात सेवाओं की गाड़ी 112 की सर्विसिंग के भुगतान के संबंध में कमीशन की मांग की थी। इस बाबत अधिकारियों से शिकायत की गई। जांच में आरोप सही मिले, जिसके बाद पुलिस को आयुक्त को प्रकरण से अवगत कराया गया।

मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस आयुक्त ने आरोपित दारोगा को निलंबित कर उसके खिलाफ एफआइआर दर्ज करने के निर्देश दिए। पुलिस आयुक्त ने कहा कि भ्रष्टाचार में लिप्त पुलिसकर्मियों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा। पुलिस आयुक्त का कहना है कि हर स्तर पर मॉनीटर‍िंंग की जा रही है। अगर कोई भी पुलिसकर्मी किसी अवैध कार्यों में लिप्त मिलेगा तो उसके खिलाफ एफआइआर दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी। 

Posted By: Anurag Gupta

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस