लखनऊ, जेएनएन। इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ खंडपीठ ने रायबरेली के दो विधायकों अदिति सिंह एवं राकेश सिंह को नोटिस जारी किया है। मामले की अगली सुनवाई 14 जुलाई को होगी। यह आदेश जस्टिस पंकज कुमार जायसवाल एवं जस्टिस दिनेश कुमार सिंह की बेंच ने कांग्रेस की एमएलए आराधना मिश्रा की ओर से दो अलग-अलग दायर रिट याचिकाओंं पर पारित किया।

याची कांग्रेस की एमएलए आराधना मिश्रा के वकील केसी कौशिक का तर्क था कि रायबरेली सदर की कांग्रेस विधायक अदिति सिंह और हरचंदपुर से कांग्रेस विधायक राकेश सिंह वर्ष 2017 में पार्टी के टिकट पर चुनकर विधानसभा पंहुचे थे, लेकिन बाद में उन्होंने पार्टी विरोधी गतिविधियां प्रारंभ कर दी। इसके बाद उनकी विधानसभा से सदस्यता समाप्त करने के लिए स्पीकर के सामने अर्जी दी गई।

याचिका में कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले की नजीर है कि सदस्यता समाप्त करने वाली अर्जियां तीन माह के भीतर निस्तारित कर दी जाएं, लेकिन इस मामले में तीन माह बीतने के बाद भी स्पीकर ने अर्जी नहीं निस्तारित की है। याचिका में हाई कोर्ट मांग की गई है कि स्पीकर को आदेश दिया जाए कि याची की अर्जियां शीघ्र निस्तारित करें। हाई कोर्ट ने सुनवाई के बाद याचिकाओं को मंजूर करने के बिंदु पर नोटिस जारी किया है।

बता दें कि रायबरेली सदर की कांग्रेस विधायक अदिति सिंह के सुर अपने दल के खिलाफ हो गए हैं। रायबरेली के पूर्व विधायक अखिलेश सिंह की पुत्री अदिति सिंह को वर्ष 2017 में चुनाव मैदान में उतारकर कांग्रेस ने अपनी जमीन मजबूत की थी, लेकिन अब निगाहें अदिति सिंह के अगले कदम पर टिकी हैं। उम्मीद यही है वह भाजपा का दामन थामेंगी। रायबरेली की ही हरचंदपुर सीट से कांग्रेस विधायक राकेश सिंह भाजपा में शामिल हो चुके एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह के सगे भाई हैं। वह अब तक पर्दे के पीछे से भाजपा का साथ दे रहे थे लेकिन, अब वह खुलकर भाजपा के समर्थन में आ गए हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस