लखनऊ, जेएनएन। राजधानी में एक हाईकोर्ट के अधिवक्ता ने घर के बाथरूम में फांसी लगाकर जान दे दी। अधिवक्ता का शव बाथरूम के रोशनदान में रस्सी के सहारे लटकता हुआ देख पत्‍नी के होश उड़ गए। दरवाजा तोड़कर शव को बाहर निकाला गया। मृतक की पत्‍नी ने एक महिला अधिवक्ता पर आत्‍महत्‍या के लिए उकसाने का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज कराया है।  

ये है पूरा मामला 

मामला जानकीपुरम विस्तार का है। यहां हाईकोर्ट के अधिवक्ता प्रशांत मिश्र (43) पत्‍नी साधना व परिवार के साथ रहते थे। इंस्पेक्टर मो. अशरफ के मुताबिक, विस्तार निवासी अधिवक्ता प्रशांत मिश्र काफी दिनों से परेशान चल रहे थे। इससे पहले भी उन्होंने आत्महत्या की कोशिश की थी। सोमवार रात घर के बाथरूम के रोशनदान में रस्सी के सहारे उन्होंने फांसी लगा ली। काफी देर बाहर न आने पर पत्नी साधना ने परिवारजन की मदद से दरवाजा तोड़ा। उन्हें फंदे से उतारकर पास के अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। वहीं, मृतक की पत्नी साधना का आरोप है कि विभूतिखंड निवासी एक महिला अधिवक्ता उन्हें अक्सर फोन कर परेशान कर रही थी। साधना की तहरीर पर महिला अधिवक्ता के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। साक्ष्यों के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। बता दें, आरोपित महिला अधिवक्ता ने छेड़छाड़ का मुकदमा दर्ज कराया था। 

 

Posted By: Divyansh Rastogi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप