लखनऊ, जागरण संवाददाता। आपका खान-पान आपकी सेहत को सीधे तौर पर प्रभावित करता है। खानपान में बरती गई लापरवाही तमाम शारीरिक परेशानियों का कारण बन सकती है। ऐसे में जोड़ों के दर्द से संबंधित परेशानी है तो उसे अनदेखा न करें। अधिकतर आ रहे ऐसे मामलों में यूरिक एसिड का बढ़ना एक अहम कारण माना जा रहा है। डाक्टरों के अनुसार आपके अनियमित खानपान समेत अन्य कारणों से यूरिक एसिड बढ़ रहा है और लोग इसकी चपेट में आ रहे हैं।

कारण

  • कई बार आहार के कारण शरीर में यूरिक एसिड इकट्ठा हो सकता है
  • कुछ मामलो में यह अनुवांशिक होता है
  • मोटापा या अधिक वजन होने के कारण भी यह समस्या हो सकती है
  • अधिक तनावग्रस्त रहते हैं, तो भी आपके शरीर में यूरिक एसिड इकट्ठा हो सकता है
  • हेल्थ डिसआर्डर भी यूरिक एसिड के बढ़ने का कारण बन सकते हैं
  • किडनी की बीमारी से यूरिक एसिड बढ़ सकता है
  • डायबिटीज के कारण भी यूरिक एसिड बढ़ता है
  • त्वचा रोग सोरायसिस के कारण भी यूरिक एसिड बढ़ सकता है

भूल से भी न करें इन दालों का सेवन

  • यूरिक एसिड के मरीजों को कुछ दाल खाने से परहेज करना चाहिए, जैसे मसूर की दाल, राजमा, चना और छोले।
  • यूरिन की मात्रा अधिक होने की वजह से दर्द और सूजन की समस्या बढ़ सकती है।
  • मूंग दाल का नियमित सेवन करने से यूरिक एसिड लेवल को कंट्रोल करने में मदद मिल सकती है, वहीं हल्की होने की वजह से इसे पचाना भी आसानी होता है।

खानपान में इस बात का विशेष ध्यान दें कि आप को संपूर्ण आहार मिले। खानपान नियमित रखें। - डा. एके त्रिपाठी, विभागाध्यक्ष हेमेटोलॉजी, किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू)

जांच में यूरिक एसिड का कुछ ऐसा होना चाहिए मानक : मानक के अनुसार, यूरिक एसिड 3.50 7.20 एमजी/ डीएल के मध्य होने पर सामान्य रहता है। चिकित्‍सकों के अनुसार, इससे अधिक होने पर यूरिक एसिड की समस्या मानी जाती है।

Edited By: Vrinda Srivastava