लखनऊ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक को संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान (पीजीआइ) से आज छुट्टी मिल गयी है। राज्यपाल राम नाईक अब स्वस्थ हैं। उनके स्वास्थ्य लाभ को देखते हुए डाॅक्टरों की टीम ने आज डिस्चार्ज करने का निर्णय लिया। बता दें, बीते बुधवार को उन्हें पीजीआइ के कार्डियोलॉजी विभाग में भर्ती कराया गया था। डॉक्टरों ने गुरुवार को राज्यपाल को पेसमेकर भी लगाया। चिकित्सकों के अनुसार दिल को सही तरीके से करंट न मिलने के कारण धड़कन में परेशानी थी। इसे पेसमेकर लगाकर सामान्य किया गया था।

मुख्यमंत्री और चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने लिया था हाल

राज्यपाल राम नाईक के पीजीआइ में भर्ती होने की सूचना मिलते ही चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन  हाल लेने पहुंचे थे। उसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी गुरुवार को पीजीआइ पहुंचकर राज्यपाल का हाल लिया था।

क्या होती है असामान्य दिल की धड़कन?

हृदय की धड़कन असामान्य हो जाती है। ऐसे में हार्ट बीट या तो रुक-रुककर या बहुत तेज हो जाती है। बहुत तेज धड़कन को टेककार्डिया और धीमी धड़कन को ब्रैडीकार्डिया कहते हैं। दिल की असमान धड़कन बार-बार होना या ज्यादा होना हानिकारक भी हो सकता है। दिल की धड़कन न्यूनतम 60 और अधिकतम 85 प्रति मिनट है तो यह सामान्य होती है। कई बार इस परेशानी में पेसमेकर लगाया जाता और कई बार रेडियोफ्रिक्वेंसी एबिलेशन तकनीक से दिल को अधिक करंट दे रहे सर्किट को कट किया जाता है। 

 

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Divyansh Rastogi