Move to Jagran APP

गोंडा के तत्कालीन सीएमओ आय से अधिक संपत्ति के दोषी, 11.22 लाख रुपये का अधिक खर्च आया सामने

विजिलेंस ने गोंडा के तत्कालीन मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डाॅ. संतोष कुमार श्रीवास्तव पर शिकंजा कसा है। विजिलेंस की जांच में वह आय से अधिक संपत्ति के दोषी पाए गए हैं। शासन के आदेश पर विजिलेंस ने डॉ. श्रीवास्तव के विरुद्ध भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत एफआईआर दर्ज की है। शासन ने जून 2022 में आरोपित डॉ. श्रीवास्तव के विरुद्ध विजिलेंस की खुली जांच का आदेश दिया था।

By Alok Mishra Edited By: Shivam Yadav Published: Tue, 11 Jun 2024 12:58 AM (IST)Updated: Tue, 11 Jun 2024 12:58 AM (IST)
गोंडा के तत्कालीन सीएमओ आय से अधिक संपत्ति के दोषी।

राज्य ब्यूरो, लखनऊ। भ्रष्टाचार के मामले में सतर्कता अधिष्ठान (विजिलेंस) ने गोंडा के तत्कालीन मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डाॅ. संतोष कुमार श्रीवास्तव पर शिकंजा कसा है। विजिलेंस की जांच में वह आय से अधिक संपत्ति के दोषी पाए गए हैं। शासन के आदेश पर विजिलेंस ने डॉ. श्रीवास्तव के विरुद्ध भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत एफआईआर दर्ज की है।

शासन ने जून 2022 में आरोपित डॉ. श्रीवास्तव के विरुद्ध विजिलेंस की खुली जांच का आदेश दिया था। विजिलेंस ने गोंडा के तत्कालीन सीएमओ की 22 अगस्त, 2017 से 30 जून, 2019 के मध्य की गई कमाई व खर्च की जांच की। 

सामने आया कि इस अवधि में डॉ. श्रीवास्तव की आय 58.90 लाख रुपये हुई और उन्होंने इस अवधि में भरण-पोषण व संपत्तियां खरीदने में 77.13 लाख रुपये खर्च किए। इस दौरान उन्होंने 11.22 लाख रुपये आय से अधिक खर्च किए, जिसका वह कोई संतोषजनक उत्तर नहीं दे सके। विजिलेंस ने मुकदमा दर्ज कर विवेचना शुरू की है। जल्द आरोपी से पूछताछ की जा सकती है।

यह भी पढ़ें: Modi Cabinet 2024: यूपी से नाता रखने वाले मंत्रियों को मिला कौन-सा मंत्रालय, देखें लिस्ट वाइज फुल डिटेल


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.