लखनऊ, राज्य ब्यूरो। वन विभाग किसानों को उनकी जमीन पर पौधारोपण के लिए अनुदान प्रदान करेगी। यानी अपनी जमीन पर पौधे लगाइये और सरकार से अनुदान पाइये। मेड़ पर 150 पौध प्रति हेक्टेयर लगाने पर 35 रुपये प्रति पौध के हिसाब से अनुदान दिया जाएगा। यह अनुदान चार साल में सरकार चार किस्तों में किसानों को देगी। दूसरी फसलों के साथ ब्लाक बनाकर पौधारोपण करने पर 500 पौध प्रति हेक्टेयर लगाने पर 28 रुपये प्रति पौध के हिसाब से अनुदान मिलेगा।

यूं तो सब मिशन ऑन एग्रोफारेस्ट्री योजना प्रदेश के 36 जिलों में चल रही है। अब इस योजना को वन विभाग और व्यापक स्वरूप देने जा रहा है। पौधारोपण को प्रोत्साहित करने के लिए सरकार किसानों को अनुदान देगी। मेड़ पर पौधारोपण करने पर पहले साल में 14 रुपये व अगले तीन वर्षों में सात रुपये प्रति पौधे के हिसाब से अनुदान दिया जाएगा। इसी प्रकार ब्लाक बनाकर पौधारोपण करने पर पहले साल 11.20 रुपये प्रति पौधा व अन्य तीन वर्षों में 5.60 रुपये प्रति पौधा दिया जाएगा।

अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक, योजना एवं कृषि वानिकी मुकेश कुमार ने बताया कि इस योजना के तहत इमली, यूकेलिप्टस, शहतूत, शीशम, बांस, सागौन, जामुन, नीम, बालम खीरा, गोल्ड मोहर, कंजी, आंवला, आम, अर्जुन, अमरूद आदि प्रजातियां लगाई जाती हैं। उन्होंने बताया कि यह योजना बरेली, शाहजहांपुर, झांसी, चित्रकूट, महोबा, कानपुर नगर, फर्रूखाबाद, सीतापुर, खीरी, बाराबंकी, बहराइच, फीरोजाबाद, बुलंदशहर, बिजनौर, चन्दौली, फतेहपुर, सिद्धार्थनगर, आजमगढ़, कुशीनगर, मऊ, मैनपुरी, हाथरस, बदायूं, मुजफ्फरनगर, बलिया, संत कबीर नगर, प्रयागराज, वाराणसी, गाजीपुर, भदोही, गोरखपुर, देवरिया, रायबरेली, प्रतापगढ़, मीरजापुर एवं कानपुर देहात शामिल हैं।