लखनऊ ( जेएनएन)। मौसमी उलटफेर ने प्रदेश के ज्यादातर हिस्से को घने कोहरे ने ढांप लिया। धुंध के आरपार देखना मुश्किल हो गया। दोपहर बाद तक वाहन रेंगते रहे। तीन दर्जन से ज्यादा उड़ान रद हो गयीं और ट्रेनों के संचालन पर भी बुरा असर पड़ा। मौसम का मिजाज बदलने के साथ ही गलन भी बढ़ गई है। दिन में कुछ देर चली हवा ने शाम को फिर शीतलहर जैसे हालात पैदा कर दिए। कई हादसे भी हुए। ठंड से दो लोगों की मौत हुई।
लखनऊ में कोहरे के चलते तापमान में गिरावट आई है जिससे 'कोल्ड डे' की स्थिति उत्पन्न हो गई है। मौसम विभाग के अनुसार यह स्थितियां अगले तीन-चार दिन ऐसी ही रहने का अनुमान है। उत्तर पश्चिमी हवा बदल कर पूर्वी हवाओं में तब्दील हो गई है।

बंगाल की खाड़ी से आने वाली सर्द पूर्वी हवाएं अपने साथ नमी लेकर आ रही है। यह हवाएं पृथ्वी की सतह के संपर्क में आने के बाद कंडेंस होने लगती हैं, जिससे कोहरे की स्थिति उत्पन्न हो जाती है। स्काईमेट के महेश पालावत बताते हैं कि दिल्ली एनसीआर सहित उत्तर प्रदेश, बिहार में कोल्ड डे की स्थितियां उत्पन्न हो गई है। मौसम विभाग के अनुसार राजधानी में अधिकतम तापमान सामान्य से नौ डिग्री कम 17.3 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड हुआ। वहीं न्यूनतम तापमान सामान्य के मुकाबले दो डिग्री अधिक 11 डिग्री सेल्सियस रहा। वातावरण में सौ फीसद नमी दर्ज हुई। पालावत बताते हैं कि जब अधिकतम व न्यूनतम तापमान का अंतर कम हो जाता है तो 'कोल्ड डे की स्थितियां उत्पन्न हो जाती हैं।

ऐसे में न्यूनतम तापमान में ज्यादा कमी न आए, लेकिन दिन के तापमान में गिरावट से ठंड का अहसास अधिक होता है। राजधानी में मंगलवार को लोग धूप की झलक के लिए तरस गए। राजधानी में कोहरे के कारण मंगलवार को छह टे्रनें निरस्त रहीं। वहीं बुधवार को भी छह ट्रेनें रद रहेंगी। तीन विमान भी निरस्त हो गए, जबकि करीब पांच दर्जन ट्रेनें 10 से 25 घंटे की देरी से लखनऊ पहुंची। इसके अलावा बलरामपुर में दिन भर कड़ाके की धूप निकली, जबकि बहराइच, सीतापुर, बाराबंकी, रायबरेली जिलों में ठंड से जनजीवन प्रभावित रहा।
वाराणसी में मौसम ने मंगलवार को जबरदस्त करवट ली। अधिकतम तापमान में 10 डिग्री सेल्सियस की गिरावट के साथ वाराणसी पहाड़ों की रानी शिमला से भी ज्यादा सर्द रहा।

वाराणसी में अधिकतम तापमान 16.2 तो शिमला में 20.4 डिग्री सेल्सियस रहा। वाराणसी, आजमगढ़, मीरजापुर मंडल के सभी जिले घने कोहरे की चपेट में रहे। बाबतपुर हवाई अड्डे पर दृश्यता महज 25 मीटर रही। नतीजतन, तीन दर्जन उड़ानों को रद करना पड़ा। कोहरे के कारण हिमगिरी एक्सप्रेस समेत तीन ट्रेनों को भी रद कर दिया गया है। राजधानी समेत सभी गाडिय़ां घंटों विलंब से चल रही हैं। भीषण ठंड के बीच ग्रामीण जनजीवन ज्यादा प्रभावित हो रहा है। सोनभद्र से लेकर बलिया तक और चंदौली से लेकर आजमगढ़ तक कोहरे की घनी चादर ने लोगों को सूर्यदेव का दर्शन नहीं करने दिया। बीते चौबीस घंटों में ठंड की चपेट में आकर गाजीपुर के नेवादा की श्यामा देवी (62) व चंदौली के सिसौड़ा कला में रामकरन प्रजापति (55) की मौत हो गई


कानपुर में कड़ाके की सर्दी शुरू हो गई है। बुंदेलखंड व मध्य यूपी के जिलों में मंगलवार को दिन में 11 बजे के आसपास कोहरा तो छटा, लेकिन सूरज छिपा रहा। नतीजतन दिन भर लोग कड़ाके की सर्दी से जूझने के जतन करते नजर आए। जगह-जगह आग तापकर राहत पाने की जुगत करते दिखे। उन्नाव, कानपुर, कानपुर देहात, फतेहपुर, औरैया, इटावा, कन्नौज, हरदोई तथा फर्रुखाबाद में ठंड ने पूरे तेवर दिखाए। औरैया व इटावा में दुर्घटनाओं में तीन लोग घायल हो गए। बांदा, हमीरपुर, उरई, चित्रकूट तथा महोबा में भी मंगलवार को सुबह दस बजे तक कोहरा छाया रहा।
इलाहाबाद में गलन का एहसास हुआ। कोहरे की चादर भी सुबह 11 बजे तक छाई रही। नए यमुना पुल पर विजिबिलटी 50 मीटर थी। ट्रेनों की लेटलतीफी बढ़ गई है। वीवीआइपी ट्रेन प्रयागराज एक्सप्रेस 5.40 घंटे विलंब से आई। दिल्ली से इलाहाबाद आने वाली एयर इंडिया की दोनों फ्लाइट कैंसिल रही। प्रतापगढ़ में सोमवार रात से कोहरा छाने लगा था। मंगलवार सुबह से ही गलन रही। कौशांबी में भी ठंड हलकान किए रही।


सहारनपुर में पूरे दिन कोहरे की चादर तनी रही। सात ट्रेनें भी कोहरे से लेट हो गईं। बिजनौर में जबर्दस्त कोहरे और ठंड ने लोगों को घरों में कैद होने कर दिया। बुलंदशहर में भी कोहरा दिन भर रहा। कई ट्रेनें प्रभावित हुईं। हाईवे पर गांव अगवाल के निकट कार व टेंपो की टक्कर में 6 लोग घायल हो गए। मुजफ्फरनगर, बागपत और शामली में घने कोहरे और ठंड का सितम रहा। अलीगढ़ भी कड़ाके की ठंड से कांप उठा। दिनभर सूरज नहीं दिखा। तेज हवा तीर की तरह चुभती रही। एटा और मैनपुरी जिले में सुबह से ही कोहरा छाया रहा, शीतलहर चली। दोपहर बाद धूप तो निकली पर ठंड से जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित रहा। शाम होते ही ठंड बढऩे लगी थी। फीरोजाबाद, मथुरा और आगरा में मौसम सामान्य रहा। मुरादाबाद में सोमवार देर रात से छायी कोहरे की परत दोपहर दो बजे तक पसरी रही। लगभग तीन दर्जन ट्रेनें दो से पंद्रह घंटे तक लेट रहीं। रामपुर, सम्भल, अमरोहा में भी चालकों को दिन में भी वाहनों की लाइट जलानी पड़ी।

सड़क हादसों में पांच की मौत
कोहरा और घना हो गया और तापमान में भी गिरावट तेज है। बहराइच में सुबह घने कोहरे के बीच अलग-अलग सड़क हादसों में दो एफसीआइ कर्मियों सहित पांच लोगों की मौत हो गई। बहराइच-लखनऊ राष्ट्रीय राजमार्ग पर बोलेरो ने मार्निंग वाक कर रहे दो एफसीआइ कर्मियों को टक्कर मार दी जिससे दोनों की मौत हो गई और बोलेरो खाई में पलट गई। फखरपुर के मरौचा के पास अज्ञात वाहन ने महिला को रौंद डाला। कोतवाली नानपारा के हाड़ा बसेहरी के पास पिकअप ने बाइक सवार गर्भवती महिला को कुचल दिया।

यह भी पढ़ें- आज काशी में केजरीवाल नोटबंदी पर उठाएंगे सवाल

यह भी पढ़ें- हाईकोर्ट में सुनवाईः नरेंद्र मोदी को नहीं पता थी अपनी पत्नी की संपत्ति

यह भी पढ़ें- नकदी संकट : कड़ाके की ठंड में भी सुबह से बैंकों के बाहर जमा हो गये लोग

यह भी पढ़ें- यूपी में आफत का कोहरा, गलन भी बढ़ी, धूप गायब, ठंड से दो मरे

यह भी पढ़ें- नोटबंदीः किसी ने बैंक खाते में डाल दिए 57 लाख रुपए, तहरीर

यूपी चुनाव की तैयारी में भाजपा, बड़े चेहरों के साथ रवाना हुए 200 परिवर्तन संदेश रथ

Edited By: Ashish Mishra