लखनऊ, जेएनएन। हर एक व्यक्ति की मूलभूत सुविधा तक पहुंच होनी चाहिए और अगर ऐसा नहीं है तो यह हमारी असफलता है। भारतीय परंपरा दूसरे के लिए जीना और दूसरों के लिए कमाने की रही है। समाज के समग्र विकास और लोगों द्वारा चुनौतियों का सामाना करने के लिए व्यावसायिक सामाजिक कार्यकर्ताओं की गहन जरूरत है। यह कहना था उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा का। 

लखनऊ विश्वविद्यालय के समाज कार्य विभाग की ओर से सातवीं भारतीय समाज कार्य कांग्रेस के समापन सत्र की अध्यक्षता कर रहे कुलपति प्रो. एसपी सिंह ने कहा हमें चुनौतियों से भागने के बजाय उस पर काम करना चाहिए और उसका सामना करने के अवसर देखने चाहिए। चुनौतियों को स्वीकार करना सामाजिक खुशहाली की दिशा में प्रथम चरण है। इस काम में व्यावसायिक समाज कार्य महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है और उसकी यह जिम्मेदारी इस कांग्रेस के साथ शुरू हो गई है। विशिष्ट अतिथि धर्मशास्त्र राष्ट्रीय विश्वविद्यालय जबलपुर के कुलपति प्रो. बलराज चौहान ने सामाजिक खुशहाली हमारी जरूरत है और इसे कानून के साथ जोड़कर देखने से उसे पाने में मदद मिलती है।

केजीएमयू की बाल रोग विभाग की प्रो. शैली अवस्थी ने कहा सामाजिक कार्यकर्ताओं की जिम्मेदारी केवल बचाव पक्ष ही नहीं बल्कि उपचारात्मक प्रक्रिया में शामिल होने की है। विवि के प्रति कुलपति प्रो. राजकुमार सिंह ने कांग्रेस के तीन दिवसीय सत्र की रिपोर्ट के आधार पर विभिन्न क्षेत्रों के मुद्दों जैसे सामाजिक खुशहाली एवं सामाजिक देखभाल समाज कार्य शिक्षा अभ्यास नीति एवं नियोजन पर अनुमोदनों को प्रस्तुत किया। इस मौके पर उपमुख्यमंत्री द्वारा समाज कार्य विभाग के सेवानिवृत्त शिक्षक प्रो. एमआर मौर्या, प्रो. एबी सिंह, प्रो. एएन सिंह को उनके अकादमिक योगदान के लिए सम्मानित किया। इस मौके पर विभागाध्यक्ष   प्रो. गुरनाम सिंह, प्रो. संजय भट्ट, प्रो. अनूप कुमार भारतीय समेत तमाम लोग मौजूद रहे। 

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021