लखनऊ (जेएनएन)। केंद्र तथा प्रदेश की भारतीय जनता पार्टी की सरकार के शहर तथा स्थानों के नाम बदलने के क्रम में अब नाम बदलने की मांग तेज होने लगी है। भाजपा विधायक संगीत सोम ने मुजफ्फरनगर जिला तो सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने गोंडा रेलवे स्टेशन का नाम बदलने की मांग की है।

इलाहाबाद का नाम प्रयागराज तथा फैजाबाद का नाम अयोध्या रखे जाने के बाद अब शहर तथा जगह का नाम बदलने की मुहिम पश्चिमी उत्तर प्रदेश तक पहुंच गई है। संगीत सोम ने मुज्जफ्फरनगर का नाम लक्ष्मी नगर रखने की मांग की है।  

मेरठ के सरधना से भारतीय जनता पार्टी के विधायक संगीत सोम ने कहा कि प्रयागराज के बाद अभी तो बहुत शहरों के नाम बदलेंगे। मुजफ्फरनगर का नाम बदला जाना है। मुजफ्फरनगर का नाम लक्ष्मीनगर लोगों की पहले से मांग है। मुजफ्फरनगर नाम का नवाब मुजफ्फर अली ने किया था। उन्होंने कहा कि मुजफ्फरनगर का नाम लक्ष्मीनगर होगा। लोगों की सदियों से मांग है कि इसका नाम लक्ष्मीनगर किया जाए।

गोंडा में आज गोंडा तथा बहराइच के बीच ब्राड गेज रेलवे लाइन के उद्घाटन के दौरान भाजपा सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने गोंडा रेलवे स्टेशन का नाम बदलने की मांग है। उन्होंने कहा कि गोंडा रेलवे स्टेशन का नाम भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी के नाम से हो।

उन्होंने यह मांग केंद्रीय रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा से की।गोंडा जंक्शन पर आयोजित समारोह में कैसरगंज के भाजपा सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की स्मृतियों को सहेजने के लिए गोंडा जंक्शन का नाम उनके नाम पर रखने की मांग की। सांसद ने कहा कि अटल जी को याद बनाए के लिए यह सबसे बेहतर माध्यम है। सांसद ने आम लोगों से मंच से इस बारे में सीधा सवाल करने के साथ ही जनप्रतिनिधियों से भी हामी भरवाई। केंद्रीय रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि जहां तक नाम बदलने का मुद्दा है, यह राज्य सरकार का काम है।

इलाहाबाद का नाम प्रयागराज तथा फैजाबाद का नाम अयोध्या रखे जाने के बाद अब शहर तथा जगह का नाम बदलने की मुहिम पश्चिमी उत्तर प्रदेश तक पहुंच गई है। संगीत सोम ने मुज्जफ्फरनगर का नाम लक्ष्मी नगर रखने की मांग की है। उन्होंने कहा कि मुगल शासकों ने देश की सभ्यता तथा संस्कृति को मिटाने का काम किया है। कट्टरवाद के नाम पर हिन्दुत्व को मिटाने का काम किया है। अब हम लोग अपनी संस्कृति को बचाने तथा उनकी वापसी का काम कर रहे हैं। भाजपा देशहित का काम करके आगे बढ़ेगी।

Posted By: Dharmendra Pandey