लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। विभिन्न जनपदों में गंगा नदी में अब तक 44 शव मिले हैं। पुलिस ने इनका अंतिम संस्कार करा दिया है। नदी में शव प्रवाहित न किए जाएं इस पर नजर रखने के लिए पुलिस, पीएसी व राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) 24 घंटे पेट्रोलिंग कर रही है। घाटों पर भी पुलिस पिकेट के जरिए निगरानी रखी जा रही है। कोविड प्रभावित शव का अंतिम संस्कार प्रोटोकाल के अनुसार कराने के निर्देश दिए गए हैं।

 एडीजी एलओ प्रशांत कुमार की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया कि अब तक वाराणसी में सात, गाजीपुर में 16, चंदौली में आठ, हमीरपुर व कानपुर में एक-एक एवं बलिया में 11 शव नदी में उतराते मिले थे। इन सभी का अंतिम संस्कार करा दिया गया है। गांव व घाटों के आस-पास लाउडस्पीकर के जरिए लोगों को शव नदी में प्रवाहित न करने के लिए जागरूक किया जा रहा है। गरीब परिवारों को शवों के अंतिम संस्कार के लिए पांच हजार रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान करने की योजना के बारे में भी बताया जा रहा है। कोरोना संक्रमण से अब तक 21176 पुलिसकर्मी संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से 17835 पुलिसकर्मी अब ठीक हो चुके हैं। अब 3186 पुलिसकर्मी ही संक्रमित बचे हैं जिनका इलाज चल रहा है। 

कोरोना कर्फ्यू के उल्लंघन पर 2.59 लाख पर एफआइआर: कोरोना कर्फ्यू के उल्लंघन पर 4.07 लाख से अधिक लोगों पर कार्रवाई की गई है। इनमें से 2.59 लाख से अधिक पर एफआइआर भी दर्ज की जा चुकी है। 94943 वाहन सीज किए गए हैं। मास्क न लगाने वाले 57.40 लाख अधिक लोगों का चालान करते हुए 94.28 करोड़ रुपये से अधिक का जुर्माना वसूला गया है।

 

Edited By: Divyansh Rastogi