लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। COVID-19 Vaccination in UP: तीसरे चरण में अब 60 साल से अधिक उम्र के लोगों को पहले कोरोना का टीका लगाया जाएगा। अभी तक 50 साल से अधिक उम्र के लोगों को वैक्सीन लगाने के निर्देश थे, लेकिन केंद्र से बदली हुई गाइडलाइन आने के बाद अब इसमें तब्दीली कर दी गई है। बुधवार को राजधानी में लाल बहादुर शास्त्री भवन (एनेक्सी) में नियमित टीकाकरण कार्यक्रम की स्टेट टास्क फोर्स की बैठक में यह निर्देश अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने दिए। 

दरअसल, से फैलने के कारण बुजुर्गों को महामारी से बचाने के लिए यह कदम उठाए जा रहे हैं। क्योंकि जो बुजुर्ग कोरोना संक्रमित हो रहे हैं, उनकी जान बचाना मुश्किल हो रही है। तीसरे चरण का टीकाकरण मार्च के दूसरे हफ्ते से शुरू करने की तैयारी है।

अब कोरोना टीकाकरण से संबंधित आंकड़ों को जुटाने का काम पेपरलेस होगा। ऑनलाइन एएनएम यानी अनमोल एप से इसकी निगरानी की जाएगी। जिन लाभार्थियों को टीका लगाया जाएगा, उनकी संपूर्ण सूचना इस एप के माध्यम से तत्काल दी जाएगी। ऐसी एएएनएम व आशा वर्कर जो टीकाकरण सहित अन्य कार्यक्रमों में बेहतर प्रदर्शन करेंगी उन्हें सम्मानित किया जाएगा। जनता के बीच सर्वे कराकर इनका चयन किया जाएगा। बैठक में राज्य टीकाकरण अधिकारी डॉ. अजय घई ने बताया कि टीकाकरण में एक्यूट इवेंट फॉल‍िंग इम्यूनाइजेशन (एईएफआइ) में काफी कमी आ गई है, लोगों को टीका लगाने के बाद कोई दिक्कत नहीं हो रही। उन्होंने कहा कि कुछ जिलों में वैक्सीन की बर्बादी बहुत कम हो रही है। मगर कुछ ऐसे जिले भी हैं, जहां तय मानक से ज्यादा वैक्सीन बर्बाद हो रही है। उसे रोका जाए।

अन्य रोगों पर कसेगा शिकंजा: अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बैठक में कहा कि प्रदेश 10 वर्षों से पोलियो मुक्त है। पल्स पोलियो अभियान के तहत बच्चों को घर-घर जाकर ड्राप पिलाई जाती है। ऐसे ही दूसरे संक्रामक रोगों पर शिकंजा कसने के लिए टीकाकरण व अन्य अभियान चलाए जाएं।