लखनऊ, जेएनएन। लॉकडाउन में राजधानी में फंसे छत्‍तीसगढ़ निवासी दंंपती साइकिल से ही अपने घर जाने के लिए निकल पड़ा। साइकिल पर डेढ़ साल के बेटे व तीन साल की बिटिया को बिठाकर दोनों बुधवार देर रात में जानकारी पुरम से चले थे। दंपती अभी राजधानी की दहलीज भी पार नहीं कर पाया था और उससे पहले ही अज्ञात वाहन ने उन्‍हें ठोकर मार दिया। हादसे में दंपती की मौत हो गई, जबकि दोनों बच्‍चे घायल हो गए, जिन्‍हें ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया है।

जानकीपुरम में झोपड़पटटी में रहकर गुजर बसर करने वाले क्रष्‍णा साहू यहां मजदूरी करते थे। लॉकडाउन के कारण वह परिवार के साथ लखनऊ में फंस गए थेेे। कोई रास्‍ता नजर नहीं आने पर कृष्‍णा पत्‍नी प्रमिला, डेढ़ साल के बेटे निखिल और तीन साल की बेटी चांदनी को साथ लेकर निकल पड़े। क्रष्‍णा ने  एक झोले में बच्‍चों का जरूरी सामान पैक कर उन्‍हें व पत्‍नी को साइकिल पर बिठाया और बुधवार देर रात में शहीद पथ के रास्‍ते घर के लिए चल दिए। बुधवार देर रात करीब डेढ बजे मेदांता अस्‍पताल के पास तेज रफ़तार अज्ञात वाहन ने साइकिल में टक्‍कर मार दी। हादसे में चारों लहूलुहान हो गए। घटना स्‍थल पर पहुंचे दारोगा विवेक चौधरी के मुताबिक घायलों को पहले मेदांता अस्‍पताल ले जाया गया था, जहां से प्रारंभिक इलाज के बाद उन्‍हें लोहिया अस्‍पताल ले जाया गया। लोहिया अस्‍पताल में डॉक्‍टरों ने प्रमिला को म्रत घोषित कर दिया।

वहीं दोनों बच्‍चों व कृष्‍णा को ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया गया। ट्रामा में कृष्‍णा की भी मौत हो गई। इंस्‍पेक्‍टर सुशांत गोल्‍फ सिटी अजय कुमार सिंह के मुताबिक क्रष्‍णा मूलरूप से छत्‍तीसगढ़़ के ग्राम रनवाैर थाना नयागढ़ जिला बेमेजरा का रहने वाला था। कृष्‍णा के भाई राम कुमार ने शवों की पहचान अपने भाई और भाभी के रूप में की है। दोनों बच्‍चों का इलाज चल रहा है। परिवारजन को सूचना दे दी गई है। तहरीर मिलने पर एफआइआर दर्ज कर छानबीन की जाएगी। 

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस