लखनऊ, जेएनएन। दिल्ली की निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात में शिरकत करने उत्तर प्रदेश से गए 157 लोगों की तलाश शुरू हुई तो बड़ी संख्या में विदेशी नागरिक भी सामने आए जो मस्जिदों व अन्य स्थानों पर ठहरे हुए थे। राजधानी लखनऊ में ऐसे 23 विदेशी नागरिक पकड़े गए तो बहराइच में 17। सीतापुर में दस और प्रयागराज में सात। इन सभी को क्वारंटाइन किया गया है। वे यहां विभिन्न जिलों में मस्जिदों व अन्य स्थानों पर ठहरे थे। अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि 79 विदेशियों को क्वारंटाइन कराया गया है। ये इंडोनेशिया, मलेशिया, सूडान, पाकिस्तान, बांग्लादेश, कजाकिस्तान व थाईलैंड के निवासी हैं। 

दिल्ली के निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात में शिरकत करने लखनऊ से भी 18 लोग गए थे, जिनकी तलाश शुरू हुई तो 23 अन्य विदेशियों को भी दबोचा गया। इनमें विदेशी नागरिकों में 17 बांग्लादेश के रहने वालेे हैं। दो कजाकिस्तान, दो तजाकिस्तान और दो अन्य किरगिस्तान के रहने वाले हैं। लॉकडाउन से पहले दिल्ली से दस तब्लीगी जमातें कानपुर आकर रुकी हैं। इनमें अफगानिस्तान की जमात भी शामिल है जो दिल्ली से राजस्थान होते हुए 14 मार्च को शहर आई थी। इस जमात में 10 लोग हैं, जिनमें छह अफगानिस्तान, एक यूके, एक ईरान और दो भारतीय हैं। अफगानिस्तान की जमात दिल्ली गई थी, जबकि अन्य नहीं। मेरठ के मवाना में दस और सरधना में नौ विदेशी जमातियों को क्वारंटाइन किया गया है। मेरठ से निजामुद्दीन जमात में गए आठ लोगों का भी पता लगाया जा रहा है।

सहारनपुर में तीन जमातों में आए 51 विदेशियों को प्रशासन पहले ही क्वारंटाइन करा चुका है। इनमें 21 कजाकिस्तान, 15 सुडान, 15 इंडोनेशिया के हैं। बिजनौर के नगीना में मोहल्ला पंजाबीयान स्थित जामुन बदली मस्जिद में बगैर सूचना दिए ठहरे इंडोनेशिया के आठ जमातियों को पकड़ा गया है। 

प्रयागराज के शाहगंज थाना अंतर्गत काटजू रोड पर अब्दुल्ला मस्जिद में ठहरे 36 लोग मंगलवार रात तलाश में सामने आए। एसपी सिटी बृजेश श्रीवास्तव के अनुसार इंडोनेशिया के सात, केरल-कोलकाता के एक-एक नागरिक मस्जिद में मिले हैंं। प्रबंधक वसीम और तब्लीगी जमात के नौ लोगों के खिलाफ धारा 269 270 271 और आपराधिक साजिश की धारा 120 बी के तहत शाहगंज थाने में रिपोर्ट लिखी जा रही है। 

अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि 79 विदेशियों को क्वारंटाइन कराया गया है। ये इंडोनेशिया, मलेशिया, सूडान, पाकिस्तान, बांग्लादेश, कजाकिस्तान व थाईलैंड के निवासी हैं। दिल्ली के निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात में शिरकत करने लखनऊ से भी 18 लोग गए थे, जिनकी तलाश शुरू हुई तो 23 अन्य विदेशियों को भी दबोचा गया। इनमें विदेशी नागरिकों में 17 बांग्लादेश के रहने वाले हैं। दो कजाकिस्तान, दो तजाकिस्तान और दो अन्य करगिस्तान के रहने वाले हैं।

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच दिल्ली से बिना किसी चिकित्सीय जांच के उत्तर प्रदेश में प्रवेश करने वाले तब्लीगी मरकज जमात में शामिल होने वाले 157 लोगों की तलाश तेज हो गई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश के बाद डीजीपी एचसी अवस्थी ने पुलिस अधीक्षकों को मुस्तैद कर दिया गया। दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में तब्लीगी में उत्तर प्रदेश के 19 जिलों के 157 लोग शामिल हुए थे। इनमें शामिल तेलंगाना का दस लोगों की कोरोना पॉजिटिव से मौत के बाद देश में खलबली मच गई है। इसमें विदेश से भी बड़ी संख्या में लोग एकत्र हुए थे। चार दिनी जलसे में विदेशी बिना स्क्रीनिंग के शामिल होने में सफल रहे थे।
68 लोग मथुरा, मैनपुरी और आगरा की मस्जिदों में मिले हैं। इनमें से मैनपुरी की मस्जिद में मिले 10 लोग शामली के रहने वाले हैैं। इसके अलावा मैनपुरी के गांव सिकंदरपुर में मिले 10 लोग अमरावती (महाराष्ट्र) के रहने वाले हैैं। बहराइच में शहर की दो मस्जिद से पुलिस ने तब्लीगी जमात के 17 छिपे विदेशी नागरिकों को तलाश लिया है। एसपी विपिन कुमार मिश्र ने बताया कि इनमें सात थाइलैैंड व 10 इंडोनेशिया के नागरिक हैं। ये सभी क्रमश: सात मार्च और 21 फरवरी को भारत आए और बहराइच स्थित मस्जिद में ठहरे। थाईलैंड नागरिकों को स्क्रीङ्क्षनग के बाद ट्रामा सेंटर में बनाए गए क्वारंटाइन वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया। पूछताछ के बाद पुलिस ने उनके पासपोर्ट जब्त कर लिए हैं। सीतापुर में छह मार्च को जमात में शामिल होने आए 10 बांग्लादेशी और दो नागरिक महाराष्ट्र के लॉकडाउन के बाद जिले में ही फंसे हैं। मंगलवार को डॉक्टरों की टीम ने खैराबाद कस्बा पहुंचकर बांग्लादेशी नागरिकों के स्वास्थ्य की जांच की है।
लॉकडाउन से पहले दिल्ली से दस तब्लीगी जमातें कानपुर आकर रुकी हैं। इनमें अफगानिस्तान की जमात भी शामिल है जो दिल्ली से वाया राजस्थान होते हुए 14 मार्च को शहर आई थी। इस जमात में 10 लोग हैं, जिनमें छह अफगानिस्तान, एक यूके, एक ईरान और दो भारतीय हैं। अफगानिस्तान की जमात दिल्ली गई थी, जबकि अन्य नहीं। मेरठ के मवाना में दस और सरधना में नौ विदेशी जमातियों को क्वारंटाइन किया गया है। मेरठ से निजामुद्दीन जमात में गए आठ लोगों का भी पता लगाया जा रहा है। सहारनपुर में तीन जमातों में आए 51 विदेशियों को प्रशासन पहले ही क्वारंटाइन करा चुका है। इनमें 21 कजाकिस्तान, 15 सुडान, 15 इंडोनेशिया के हैं। बिजनौर के नगीना में मोहल्ला पंजाबीयान स्थित जामुन बदली मस्जिद में बगैर सूचना दिए ठहरे इंडोनेशिया के आठ जमातियों को पकड़ा गया है। प्रयागराज के शाहगंज थाना अंतर्गत काटजू रोड पर अब्दुल्ला मस्जिद में ठहरे 36 लोग मंगलवार रात तलाश में सामने आए। एसपी सिटी बृजेश श्रीवास्तव के अनुसार इंडोनेशिया के सात, केरल-कोलकाता के एक-एक नागरिक मस्जिद में मिले हैंं। प्रबंधक वसीम और तब्लीगी जमात के नौ लोगों के खिलाफ धारा 269 270 271 और आपराधिक साजिश की धारा 120 बी के तहत शाहगंज थाने में रिपोर्ट लिखी जा रही है।

68 लोग मथुरा, मैनपुरी और आगरा की मस्जिदों में मिले हैं। इनमें से मैनपुरी की मस्जिद में मिले 10 लोग शामली के रहने वाले हैं। इसके अलावा मैनपुरी के गांव सिकंदरपुर में मिले 10 लोग अमरावती (महाराष्ट्र) के रहने वाले हैं। बहराइच में शहर की दो मस्जिद से पुलिस ने तब्लीगी जमात के 17 छिपे विदेशी नागरिकों को तलाश लिया है। एसपी विपिन कुमार मिश्र ने बताया कि इनमें सात थाइलैंड व 10 इंडोनेशिया के नागरिक हैं। ये सभी क्रमश: सात मार्च और 21 फरवरी को भारत आए और बहराइच स्थित मस्जिद में ठहरे।

थाईलैंड नागरिकों को स्क्रीनिंग के बाद ट्रॉमा सेंटर में बनाए गए क्वारंटाइन वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया। पूछताछ के बाद पुलिस ने उनके पासपोर्ट जब्त कर लिए हैं। सीतापुर में छह मार्च को जमात में शामिल होने आए 10 बांग्लादेशी और दो नागरिक महाराष्ट्र के लॉकडाउन के बाद जिले में ही फंसे हैं। मंगलवार को डॉक्टरों की टीम ने खैराबाद कस्बा पहुंचकर बांग्लादेशी नागरिकों के स्वास्थ्य की जांच की है।

दिल्ली की जमात में गए यूपी के नौ लोग क्वारंटाइन में

दिल्ली के निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात में शामिल होने गए प्रदेश के सूचीबद्ध 157 लोगों में से नौ को बिजनौर व बागपत समेत पांच जिलों में क्वारंटाइन किया गया है। आइजी कानून-व्यवस्था ज्योति नारायण ने बताया कि क्वारंटाइन किए गए सभी नौ लोगों की कड़ी निगरानी के निर्देश दिए गए हैं। कुछ अन्य संदिग्धों की जांच अभी कराई जा रही है। बताया गया कि जमात में गए करीब 137 लोग दिल्ली में ही हैं।

डीजीपी मुख्यालय ने सोमवार को दिल्ली के निजामुद्दीन में जमात में शामिल होने गए प्रदेश के 157 लोगों की सूची जारी कर 19 जिलों से उनके बारे में जानकारी मांगी थी। सूची में लखनऊ समेत 19 जिले के निवासियों के नाम हैं। सूत्रों के अनुसार सूची में शामिल करीब 20 लोगों के बारे में छानबीन की जा रही हैं। इनमें नौ को क्वारंटाइन किया गया है। कुछ अन्य की अभी जांच चल रही है। एक अधिकारी का कहना है कि सूची में कुछ नामों का दोहराव भी है। जमात में उत्तर प्रदेश के लोगों के शामिल होने की सूचना के बाद शासन में हड़कंप मच गया था। इसके बाद प्रदेश की सीमाएं सील कर दी गई हैं।

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस