लखनऊ (जेएनएन)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विश्व दिव्यांग दिवस पर लखनऊ में दिव्यांगजनों को उत्कृष्ट कार्य करने पर सम्मानित किया। इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आज आयोजित इस कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार दिव्यांगजनों की बेहतरी के लिए लगातार प्रयास तथा काम कर रही है। जिससे इनको भी मुख्यधारा में जोड़ा जा सके। 

विश्व दिव्यांग दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में किया गया। उन्होंने कहा कि दुनिया में दिव्यांगता की वजह से प्रकृति की चुनौती से जूझते हुए संघष कर रहे हैं उनको नमन करते हुए उनको बधाई जो दिव्यांगों के कल्याण में लगे हैं। सेवा जीवन का चरम लक्ष्य होता है। सभी मत, धर्म, सम्प्रदाय सेवा को परम धर्म मानते हुए सरर्वोच्च स्थान देते हैं।

सेवा की कोई सौदेबाजी नही हो सकती हैं। सेवा को सौदे के साथ जोड़ते हैं तो वो स्वार्थ होता है, यह पतन का कारण बनता है। उन्होंने कहा कि दिव्यांगों के प्रति समाज का व्यवहार संवेदनशील होना चाहिए। कई ऐसे कारण जिनकी वजह से दिव्यांगता बढ़ी है। समय पर टीकाकरण और सावधानी से दिव्यंग्ता पर कमी की जा सकती है। दिव्यांगों के प्रति समाज का व्यवहार संवेदनशील होना चाहिए। दिव्यांगों से द्वेष न रखें। कई ऐसे कारण जिनकी वजह से दिव्यांगता बढ़ी है। समय पर टीकाकरण और सावधानी से दिव्यंग्ता पर कमी की जा सकती है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि दिव्यांगजनों ने इसे चुनौती मानते हुए हार नहीं बल्कि इसको मात लेकर विलक्षण प्रतिभा का लोहा मनवाया है। तमाम बाधाओं के बाद भी इन्होंने हर परिस्थिति का मुकाबला किया है। उन सभी को बधाई जिन्होंने इनके कल्याण का बीड़ा उठा रखा है। समाज की संवेदना सहानुभुति उसके साथ होनी चाहिए। कई लोग ऐसे हैं शरीरिक दिव्यांगता सफलता को बाधित नही कर पाई। ऐसी ही यूपी की बालिका अरुणिमा ने एवरेस्ट फतह की। आईएएस सुहास एलवाई ने भी खेल में सफलता हासिल की। 

उन्होंने कहा कि आठ महीने में दिव्यांग कल्याण विभाग ने बेहतर प्रयास किए हैं। सबसे पहले विभाग का नाम दिव्यांग सशक्तिकरण विभाग किया। हमने दिव्यांग पेंशन तीन सौ से बढ़ा कर पांच सौ रुपए की। इनकी शादी अनुदान की राशि भी सरकार ने बढ़ाई। सरकार सहयोग कर रही है, समाज के लोग भी सहयोगी बनें।

इस दौरान राज्य स्तरीय पुरस्कार वितरण समारोह भी आयोजित किया गया। सीएम योगी आदित्यनाथ ने दिव्यांगजनों को सम्मानित किया। सीएम ने संगीत के क्षेत्र में भगत सिंह यादव व दीपा त्रिपाठी को सम्मानित किया। दिव्यांग क्रिकेटर कुलदीप के साथ कोमल जायसवाल को भी खेल में योगदान के लिए सम्मानित किया गया मृदु गोयल को भी किया गया। इनके साथ ही दिव्यांग ज्ञान सिंह व राजेश कुमार उपाध्याय के साथ दृष्टि बाधित धर्मेन्द्र को भी मुख्यमंत्री ने सम्मानित किया। दिव्यांग नृत्यांगना प्रतीक्षा, ऋतु सुहास, दिशा वर्मा व योगेंद्र चंद्र दुबे को भी सम्मानित किया गया। सर्वश्रेष्ठ विद्यालय का पुरस्कार संकेत विद्यालय को दिया गया।

Posted By: Dharmendra Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप