लखनऊ (जेएनएन)। उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार के बजट पेश होने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल तथा उनकी टीम को जमकर सराहा। बजट पेश होने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने मीडिया को संबोधित भी किया। बजट में 14 हजार 341 करोड़ रुपये की नई योजनाओं का ऐलान किया गया है। उधर विपक्ष ने इस बजट को झुनझुना बताया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश का 2018-19 का शानदार बजट पेश करने के लिए मैं वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल तथा उनकी पूरी टीम को बधाई देता हूं। यह बजट प्रदेश के समग्र विकास की नजीर पेश करेगा। प्रेसवार्ता में उन्होंने कहा कि सबसे देश के किसी भी राज्य को सबसे बड़ा बजट पेश किया गया है। यह पिछले बार के बजट की तुलना में 11.4 फीसदी ज्यादा है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यह बजट प्रदेश के समग्र विकास का ध्यान रखते हुए बजट पेश किया गया है। इसमें शिक्षा के लिए काफी पैसा दिया गया है। इस बजट में बेसिक के साथ माध्यमिक, उच्च व तकनीकि शिक्षा को काफी धन आवंटित किया गया है। इसके लिए मैं वित्त मंत्री जी और उनकी पूरी टीम को बधाई देता हूं। हमारे वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल जी ने वर्ष 2018-19 का देश के सबसे बड़े राज्य यूपी के बजट को प्रस्तुत किया है।

इस बार भी उन्होंने वित्तीय अनुशासन को बनाए रखते हुए प्रदेश के किसान, नौजवान, महिला तथा गांवों को ध्यान में रख कर समग्र रूप से बहुत अच्छा पेश किया है। अब सरकार इसी उम्मीद के साथ प्रदेश के विकास में लग जाएगी। इस बार कृषि और उससे संबद्ध क्रियाकलाप के लिए 8403.40 करोड़ रुपये का प्रावधान है। जो पिछले बार की तुलना में 17.5 फीसदी ज्यादा है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि बजट किसानों और विकास को ध्यान में रखकर तैयार किया गया है। किसानों की मुश्किलों को कम करने वाली कई योजनाओं के लिए धन आवंटित किया गया है। उन्होंने कहा कि बजट में सिंचाई और बाढ़ नियंत्रण के लिए प्रावधान किए गए हैं। बजट में वित्तीय अनुशासन को बनाए रखा गया है। मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि समग्र विकास का बजट है। 

प्रदेश में सिंचाई की परियोजना के साथ बुंदेलखंड की आठ जरूरी सिंचाई परियोजना बाढ़ नियंत्रण और जल निकासी की अच्छी व्यवस्था के लिए 10938.19 करोड़ रुपये का बजट है, जो पिछली बार की तुलना में 54 फीसदी ज्यादा है। मुसहर जाति के लोगों के लिए और ऐसे लोगों के लिए जिनके नाम पर आज तक जमीन का कोई पट्टा नहीं हुआ है, हमने मुख्यमंत्री आवास योजना के अंतर्गत 200 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है।

हमने 1556 ऐसे गांव चिन्हित किए हैं जहां योजना पहुंचेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में अच्छी सड़कें बनाने और बेहतर कनेक्टिविटी के लिए 17615.29 करोड़ रुपये का बजट है, जो पिछले साल की तुलना में 22 फीसदी ज्यादा है। सरकारी कार्यालयों को ई ऑफिस से जोडऩे के लिए हमने 22 करोड़ रुपये का बजट निर्धारित किया है। इस योजना से 22 विभाग पहले ही जुड़ चुके हैं , बाकी विभाग भी जल्द ही जुड़ेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि हर घर में बिजली पहुंचाई जा सके, इसके लिए इस बजट में 29883.05 करोड़ का प्रावधान किया गया है। यह पिछले साल की तुलना में 54 फीसदी ज्यादा है।

विपक्ष ने बताया झुनझुना

नेता विरोधी दल आज सिविल अस्पताल से विधान सभा पहुंचे। इसके बाद उन्होंने बजट पर अपनी प्रतिक्रिया भी दी। नेता विरोधी दल राम गोविंद चौधरी ने कहा कि आज प्रदेश के वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल ने जो बजट पेश किया है, वह दिशाहीन है। उनका यह बजट गरीब व नौजवानों के लिए निराशाजनक है। चौधरी ने कहा कि लगता है कि इस बजट में जनता को झुनझुना थमाया गया है।

 समाजवादी पार्टी ने कहा कि अखिलेश सरकार की योजनाओं को ही आगे बढ़ाया गया है। एक्सप्रेस वे को लेकर दिया गया बजट अधूरा है। सरकार ने डायल 100 को नजर अंदाज किया। बजट में किसानों को फिर से निराशा हाथ लगी है। युवाओं के रोजगार के लिए सरकार ने पुख्ता इंतजाम कुछ नहीं किया है। उन्होंने आरोप लगाया कि योगी सरकार के इस दूसरे बजट में सिर्फ आंकड़ों को इधर से उधर किया गया है।

बजट पर कांग्रेस नेता अजय सिंह लल्लू ने कहा कि जनता को उम्मीद थी कि इस बजट में नई योजनाएं किसान व नौजवान के लिए होंगी। आलू और गन्ना किसानों के लिए अपेक्षित विशेष पैकेज इस बजट नहीं दिया गया है। सरकार ने 14 लाख हर साल रोजगार देने की बात की थी, वो इस बजट में दिखाई नहीं दिया। कानून व्यवस्था को सुदृढ़ करने का खाका इस बजट में नहीं दिखाई दिया। उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार और यहां पर योगी आदित्यनाथ सरकार भगवान राम के भरोसे चल रही हैं। प्रदेश में निवेश बढ़ाने और विकास के ढांचे को मजबूत करने के उद्देश्य से सरकार ने इस बार एक्सप्रेस वे योजनाओं को खास तरजीह दी है। सरकार ने बजट में बुंदेलखंड, गोरखपुर लिंक के साथ लखनऊ आगरा एक्सप्रेस वे के लिए करोड़ों रुपए सुरिक्षत किए हैं।
वहीं, बसपा नेता लालजी वर्मा ने कहा कि बजट घोर निराशाजनक है। सरकार का बजट जनता के लिए निराशाजनक है। अभी पिछले बजट की विभिन्न योजनाओं का 60 प्रतिशत खर्च नहीं हुआ है। अब तो इस बजट से घाटा और बढ़ेगा।

Posted By: Dharmendra Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप