लखनऊ, जागरण संवाददाता। खादी ग्रामोद्योग के सहायक विकास अधिकारी लक्ष्मीकांत नाग उनकी पत्नी और बेटे के खिलाफ विभूतिखंड थाने में फर्जी दस्तावेज तैयार कर ठगी का मुकदमा रविवार को दर्ज किया गया है। रिपोर्ट विक्रांतखंड-तीन पारिजात अपार्टमेंट मेंं रहने बृजकिशोर जायसवाल ने कराई है।

इंस्पेक्टर विभूतिखंड आशीष मिश्रा के मुताबिक, बृजकिशोर द्वारा दिए गए प्रार्थनापत्र में आरोप लगाया गया कि लक्ष्मीकांत नाग उनकी पत्नी सुशीला जायसवाल और बेटे रवि कुमार ने फर्जी दस्तावेज तैयार कर उनकी फर्म को हड़पने के फर्जीवाड़े की कोशिश की। बृजकिशोर ने बताया कि लक्ष्मीकांत नाग उनकी पत्नी और बेटे ने 13 लाख रुपये भी उनके हड़प कर दिए। जब रुपयों की मांग की तो उन्होंने उसके बदले प्लाट देने का आश्वासन दिया। प्लाट भी नहीम दिया। रुपयों न मिलने पर विरोध किया तो लक्ष्मीकांत ने धमकी दी।

बृजकिशोर के मुताबिक, बीते मई माह में उनकी पत्नी शालिनी कोविड संक्रमित हुई और दो जून को उनकी मृत्यु हो गई। इस बीच सुशीला उनके पति और बेटे ने मिलकर मकान का फर्जी किरायानामा तैयार कर लिया और शोरूम पर भी स्वामित्व होने का दावा करने लगे। लक्ष्मीकांत और उनके परिवार ने मानसिक रूप से बेहद परेशान किया। मामले की जानकारी पुलिस में दी तो कोई कार्रवाई नहीं हुई। इसके बाद डीसीपी पूर्वी अमित कुमार आनंद को मामले की जानकारी दी। दस्तावेजों की डीसीपी ने जांच कराई। इसके बाद रविवार को लक्ष्मीकांत नाग उनकी पत्नी और बेटे के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया।

Edited By: Vikas Mishra