लखनऊ[जागरण संवाददाता]। लोहिया अस्पताल में वार्ड से लेकर इमरजेंसी तक सुरक्षित नहीं हैं। यहा बुधवार (23 मई) सुबह 25 वर्षीय युवक ने हाईडिपेंडेंसी यूनिट से लेकर आइसीयू तक रेकी की। कुछ देर बाद वापस आकर मरीज की नब्ज देखी और बेड के साइड में लगा कार्डियक मॉनीटर बैग में रखकर भाग गया। मामले की शिकायत पुलिस से की गई है। ऐसे उड़ा ले गया कार्डियक मॉनीटर

सुबह साढ़े छह बजे का वक्त था। नर्स से लेकर वार्ड ब्वॉय, गार्ड तक इमरजेंसी में मौजूद थे। वहीं मॉस्क लगाकर एक 25 वर्षीय युवक इमरजेंसी के हाईडिपेंडेंसी यूनिट में दाखिल हुआ। पूरा जायजा लेकर बगल के ही वेंटीलेटर यूनिट (आइसीयू) में गया। पूरी रेकी करने के बाद वापस चला गया। करीब सात बजे फिर वह हाईडिपेंडेंसी यूनिट में आया। उसने बेड नंबर 30 पर भर्ती मरीज के परिजनों से हालचाल पूछा। साथ ही मरीज की नब्ज पकड़कर देखने का नाटक किया। इसके बाद मरीज को लगे कार्डियक मॉनीटर को खराब बताया। उसने मरीज के पल्स रेट, ऑक्सीजन सेचुरेशन, ईसीजी टेसिंग व ब्लड प्रेशर की पैरामीटर मापने संबंधी लीड हटा दीं। साथ ही झोले में रखकर नया मॉनीटर लगाने की बात कहकर गायब हो गया। सीसीटीवी से हुआ खु्रलासा

वहीं जब मरीज के बेड से मॉनीटर गायब मिला तो स्टाफ के होश उड़ गए। अस्पताल के निदेशक डॉ. डीएस नेगी ने विभूति खंड पुलिस से शिकायत की। पुलिस के पहुंचने पर सीसीटीवी में मॉस्क लगाए युवक मॉनीटर की चोरी करता दिखा और वह एप्रेन भी पहन रखा था। हालाकि उसकी शिनाख्त नहीं हो सकी है।

इंस्टीट्यूट के भी खंगाले जाएंगे फुटेज

लोहिया अस्पताल के सीसीटीवी में इमरजेंसी तक के फुटेज आए हैं। वहीं युवक चोरी कर लोहिया इंस्टीट्यूट की तरफ भागा। ऐसे में पुलिस अब लोहिया इंस्टीट्यूट के सीसीटीवी फुटेज भी खंगालेगी। तो मरी ज की

अस्पताल में बाहरी व्यक्ति आकर मरीज की नब्ज पकड़कर देखता है। वहीं मरीज के लगा कार्डियक मॉनीटर अचानक चोरी कर लिया जाता है। यह सुरक्षा व्यवस्था के साथ-साथ मरीजों की जिंदगी से खिलवाड़ है। कारण, इमरजेंसी में मौजूद स्टाफ ने आखिर यूनिट में भर्ती मरीज का अनजान व्यक्ति से चेकअप कैसे करने दिया। वहीं मॉनीटर चोरी हो गया, जबकि वार्ड ब्वॉय, स्वीपर व गेट पर तैनात गार्डो को भनक तक नहीं लगी। स्टाफ पर शक, कमेटी का गठन

घटना में अस्पताल के स्टाफ की मिलीभगत को लेकर आशका की जा रही है। अफसरों का कहना है कि बिना अस्पताल के स्टाफ की मदद से ऐसी घटना को अंजाम देना संभव नहीं है। निदेशक डॉ. डीएस नेगी ने कहा कि मामले की जाच के लिए कमेटी का गठन कर दिया गया। ड्यूटी पर तैनात स्टाफ से पूछताछ की जाएगी। क्या कहते हैं अधीक्षक ?

चिकित्सा अधीक्षक डॉ. एमएल भार्गव का कहना है कि घटना सीसीटीवी कैमरे में कैद है, मगर मॉस्क लगा होने से चोर की पहचान नहीं की जा सकी। पुलिस को फुटेज सौंप दी गई है।

क्या कहती है पुलिस?

वहीं विभूतिखंड इंस्पेक्टर बृजेश राय का कहना है कि मामला मेरी जानकारी में आया है। लोहिया अस्पताल के अधिकारी अभी इंटरनल जाच कर रहे है। थाने में किसी प्रकार की कोई तहरीर नहीं दी गई है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप