लखनऊ, जेएनएन । शहर के एकमात्र परमवीर चक्र विजेता कैप्टन मनोज पांडेय शुरू से पढ़ाई में तेज थे। उनके साथ नेशनल डिफेंस अकादमी की तैयारी करने वाले यूपी सैनिक स्कूल के छात्र कैडेटों के जेहन में आज भी वह यादें ताजा हैं। हर किसी ने कहा कि मनोज बहुत मिलनसार थे। समय प्रबंधन में उनका कोई जवाब नहीं था। देश का सबसे पुराना यूपी सैनिक स्कूल आज शहीद कैप्टन मनोज पांडेय के नाम से जाना जाता है।

कैप्टन मनोज पांडेय यूपी सैनिक स्कूल के सन 1993 बैच के छात्र कैडेट थे। उनका बैच अपना रजत जयंती समारोह मना रहा है। इसी के तहत शनिवार को कैप्टन मनोज पांडेय यूपी सैनिक स्कूल में समारोह का आयोजन किया गया। जिसमें शहीद कैप्टन मनोज पांडेय की प्रतिमा का अनावरण उनके पिता गोपीचंद पांडेय ने किया। कार्यक्रम में स्कूल के प्रधानाचार्य कर्नल अमित चटर्जी, हेड मास्टर कर्नल विजय राणा और रजिस्ट्रार कर्नल यूपी सिंह के अलावा शिक्षक व छात्र कैडेट भी मौजूद थे।

सेना में अफसर बना शहर का लाल

देहरादून स्थित इंडियन मिलिट्री अकादमी की पासिंग आउट परेड के बाद शहर के शिवम मिश्र सेना में अफसर बन गए। राजाजीपुरम निवासी शिवम मिश्र के पिता नरेंद्र कुमार मिश्र ग्राम विकास विभाग के सेवानिवृत्त प्रशासनिक अधिकारी हैं। प्रारंभिक शिक्षा रेड रोज स्कूल और फिर लखनऊ पब्लिक इंटर कॉलेज से करने के बाद उन्होंने नेशनल डिग्री कॉलेज से बीए किया है।

शहीदों को नमन 

सन 1965 और 1971 के भारत पाक युद्ध में अहम भूमिका निभाने वाली भारत की सेना सेवा कोर का 258वां स्थापना दिवस छावनी में धूमधाम से मनाया गया। कोर के वरिष्ठ अधिकारी मेजर जनरल पीपी सिंह ने मध्य कमान युद्ध स्मारक स्मृतिका पर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की। मध्य कमान सेनाध्यक्ष ले. जनरल अभय कृष्ण ने कोर के जवानों और अधिकारियों को शुभकामनाएं दी।

Posted By: Anurag Gupta