अयोध्या [रविप्रकाश श्रीवास्तव]। Shri Ram Mandir Ayodhya: अंतरराष्ट्रीय मानदंडों के आधार पर विकसित हो रहे अयोध्या रेलवे स्टेशन से एक बड़ा भू-भाग जुड़ेगा। वर्तमान में स्टेशन के समक्ष उत्तर दिशा में मुख्य मार्ग के करीब तक एक बड़ा भूखंड रेलवे अधिग्रहीत करेगा। इस भूमि को समतल करा कर क्षेत्र को सुंदरीकरण के उत्कृष्ट मानक पर विकसित किया जाएगा। इस स्थान को कुछ ऐसा विकसित किया जाएगा कि स्टेशन पर उतरने वाले श्रद्धालु और पर्यटक यहां से भी राममंदिर का दीदार कर सकें और उन्हें एहसास भी हो जाए कि वह अपने आराध्य के करीब पहुंच गए हैं। 

जमीन के अधिग्रहण को लेकर रेलवे की कार्यदायी संस्था की ओर से जिला प्रशासन के संपर्क तेज कर दिया गया है। इस भूखंड को बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं व सुरक्षा कर्मियों के ठहरने का भी इंतजाम होगा। माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री के साथ रेल मंत्री का भी आगमन हो सकता है। इसलिए स्टेशन के विकास से जुड़े कार्यों को मुकम्मल करने में तेजी लाई जा रही है। स्टेशन को भी मंदिर के स्वरूप ही बनाया जा रहा है। कोरोना संकट ने अयोध्या रेलवे स्टेशन पुनर्विकास की योजना को तगड़ी चोट पहुंचाई है। स्टेशन के पुनर्विकास में लगे अधिकांश श्रमिक लॉकडाउन में चले गए। कुशल श्रमिकों के न होने से कार्य लगभग दो महीने ठप हो गया। राममंदिर के शिलान्यास की घोषणा होते ही इस परियोजना से जुड़े लोगों में हलचल बढ़ गई है। श्रमिक की वापसी के साथ उनकी उपलब्धता सुनिश्चित होने लगी है। 

 

104 करोड़ हुई लागत 

अयोध्या रेलवे स्टेशन के पुनर्विकास की योजना पहले 80 करोड़ की थी, जिसकी लागत बढ़ कर 104 करोड़ हो गई है और बजट स्वीकृत भी हो चुका है। 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021