लखनऊ, जेएनएन। यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षा समेत अन्य बोर्डों की परीक्षाओं में पूरी एकाग्रता से कदम बढ़ा रहे मेधावियों की राह में बड़े शहरों का शोर रोड़ा बन रहा है। परीक्षार्थियों को इस मुसीबत से पार पाने के लिए यूपी पुलिस की मदद लेनी पड़ रही है। ध्वनि प्रदूषण के खिलाफ कार्रवाई के लिए यूपी 112 में सबसे अधिक कॉल करने वाले विद्यार्थी लखनऊ, गौतमबुद्धनगर व गाजियाबाद के हैं। शहरी क्षेत्रोंं से शिकायतें मिलने का औसत भी 72 फीसद है। 

एडीजी 112 असीम अरुण का कहना है कि बोर्ड परीक्षा के दृष्टिगत शुरू किए गए अभियान के तहत ध्वनि प्रदूषण की शिकायतें लगातार बढ़ रही हैं। 15 फरवरी से शुरू इस अभियान में 17 फरवरी तक 112 पर 2200 से अधिक शिकायतें दर्ज की गई हैं। इनमें शहरी क्षेत्रों से 1600 व ग्रामीण इलाकों से 600 शिकायतें आई हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में भी सबसे अधिक 55 शिकायतें गौतमबुद्धनगर से आई हैं।

असीम अरुण ने बताया कि शहरी क्षेत्रों में टॉप पर लखनऊ है, जहां से सबसे अधिक 294 शिकायतें आई है। इसके अलावा गाजियाबाद से 161, गौतमबुद्धनगर से 145, कानपुर नगर से 135 तथा मेरठ से 130 शिकायतें मिली हैं। जिन क्षेत्रों से बार-बार शिकायतें आ रही हैं, वहां अधिक सक्रियता के साथ ध्वनि प्रदूषण करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं।

महोबा है शांति

महोबा अकेला ऐसा जिला है, जहां से अब तक 112 पर एक भी शिकायत नहीं आई है। इसके अलावा श्रावस्ती से महज एक व महाराजगंज से दो शिकायतें आई हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस