जेएनएन, लखनऊ। पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय चौधरी चरण सिंह के जन्मदिन पर आयोजित किसान सम्मान दिवस पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि वह प्रदेश के 2.44 करोड़ किसानों को पत्र लिखेंगे। किसान मोर्चा के लोग इन पत्रों को किसानों तक पहुंचाएंगे। इस मौके पर उन्होंने प्रगतिशील किसानों को सम्मानित भी किया। आज किसान नेता का जन्मदिन विविध आयोजनों के जरिए मनाया गया। किसान गोष्ठियां, पदयात्रा, सभाएं, हवन पूजन, फल वस्त्र दान और किसान का सम्मान जैसे आयोजन प्रदेश भर में हुए। 

सांसद राजेन्द्र अग्रवाल मेरठ कमिश्नरी पर लगी प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। उनके साथ जिला सहकारी बैंक अध्यक्ष भाजपा पदाधिकारी भी रहे। इसी प्रतिमा के नीचे समाजवादी पार्टी पदाधिकारियों के  साथ राष्ट्रीय लोकदल कार्यकर्ताओं ने हवन किया। किसान मेला, कृषि प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। प्रदेश भर में जगह जगह लगी किसान नेता की प्रतिमाओं पर माल्यार्पण का दौर आज सुबह से ही शुरू हो गया। सीएम योगी समेत तमाम नेताओं ने दलीय मर्यादाएं तोड़ अपने नेता को श्रद्धासुमन अर्पित किए।

व्यक्तित्व और कृतित्व को याद किया

गोष्ठियों, सभाओं, सम्मेलनों और चर्चाओं में किसान मसीहा के व्यक्तित्व और कृतित्व को याद किया गया। देश के पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह ने कहा था कि भारत की उन्नति का रास्ता खेत-खलिहान से होकर जाता है। अपने इन्हीं सिद्धांतों और आदर्शो के अनुरूप किसान मसीहा ने ग्रामीण भारत के विकास के लिए जीवन समर्पित किया था। 'बड़े चौधरी' की जयंती पर उनके विराट, प्रेरक व्यक्तित्व की खूबियां याद आती रहीं । वह ग्रामोत्थान के लिए शिक्षा को अमूल्य मानते थे। राजनीतिक मंचों पर भी किसानों और मजदूरों को अपने बच्चों को उच्च शिक्षा दिलाने को प्रोत्साहित करते थे। 

भारतीय किसान यूनियन के पदाधिकारियों ने कई जिलों में पद यात्रा निकालकर लोगों की मूलभूत समस्याओं को सुना। भाकियू नेताओं ने कहा कि जनता को मूलभूत सुविधाएं, विधवा पेंशन, वृद्धा पेंशन, आवास की समस्या से जूझना पड़ रहा है। केंद्र और राज्य सरकार पर किसानों के हितों की अनदेखी करने का आरोप भी लगाया गया।

Posted By: Nawal Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस