लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार किडनी के मरीजों को बड़ी राहत देने जा रही है। अब प्रदेश के सभी जिलों में किडनी के मरीजों को मुफ्त डायलिसिस की सुविधा मिलेगी। ऐसे 24 जिले जहां अभी सरकारी अस्पताल में डायलिसिस की सुविधा नहीं है, वहां इसे सुविधा जल्द शुरू किया जाएगा। पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (थ्री पी) माडल पर यह डायलिसिस यूनिट स्थापित की जा रही हैं। प्रत्येक डायलिसिस यूनिट में 10 बेड होंगे।

किडनी के मरीजों को अब दूर-दराज के जिलों में डायलिसिस के लिए चक्कर नहीं लगाना होगा। उन्हें अपने जिले में ही मुफ्त डायलिसिस की सुविधा मिलेगी। अभी तक प्रदेश में 51 जिलों में ही यह व्यवस्था है। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य महानिदेशक डा. वेद ब्रत सिंह ने बताया कि जिन जिलों में डायलिसिस की सुविधा सरकारी अस्पतालों में नहीं है, वहां डायलिसिस यूनिट तैयार करने का काम तेजी से किया जा रहा है।

फर्रुखाबाद, हरदोई और शामली में तो इसी महीने डायलिसिस यूनिट शुरू करने की तैयारियां की जा रही हैं। बाकी मऊ, गाजीपुर, चंदौली, संत कबीर नगर, महाराजगंज, पीलीभीत, बहराइच, लखीमपुर खीरी, फतेहपुर, चित्रकूट, ललितपुर, महोबा, कानपुर देहात, मैनपुरी, कासगंज, औरैय्या, बाराबंकी, शाहजहांपुर, संभल, सीतापुर व मैनपुरी में भी नवंबर अंत तक डायलिसिस की सुविधा शुरू करने पर जोर दिया जा रहा है।

अभी इन जिलों में मरीजों को सरकारी अस्पतालों में डायलिसिस की सुविधा नहीं मिलने के कारण उन्हें निजी अस्पताल जाना पड़ता है। यहां पर मरीजों को डायलिसिस कराने पर एक बार में ढाई हजार रुपये तक खर्च करने पड़ते हैं।

Edited By: Umesh Tiwari