लखनऊ(जागरण संवाददाता)। बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर केंद्रीय विश्वविद्यालय (बीबीएयू) में छात्रों ने तीसरे दिन यानी मंगलवार को फिर से आवाज बुलंद की। छात्रों ने प्रदर्शन कर यूनिवर्सिटी इंस्टिट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के निदेशक प्रोफेसर कमान सिंह को पद से हटाने और नियमित शिक्षकों की भर्ती करने की माग की। छात्रों का कहना है कि जब तक मागे पूरी नहीं होती आदोलन जारी रहेगा। अंबेडकर भवन के बाहर छात्रों ने जमकर विश्वविद्यालय प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की।

निदेशक को हटाने की माग पर अड़े हुए छात्र

गौरतलब है कि बीटेक कोर्सेज को न बंद किए जाने की माग को लेकर विद्यार्थियों का 22 मार्च को प्रदर्शन करने के बाद सोमवार (26 मार्च) को छात्रों ने नारेबाजी की। विद्यार्थियों ने वार्ता करने पहुंचे प्रॉक्टर प्रो. राम चंद्रा को बंधक बना लिया था। उनके साथ यूनिवर्सिटी इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के निदेशक प्रो. कमान सिंह भी मौजूद थे। मौके पर पहुंची पुलिस ने किसी तरह अधिकारियों को वहा से बाहर निकाला। इसके बाद रजिस्ट्रार प्रो. आरबी राम ने बीटेक कोर्स को लेकर दी गई टेक्निकल रिपोर्ट को स्वीकार करते हुए कोर्सेज को चलाने की घोषणा की। मगर विद्यार्थी अब निदेशक को हटाने की माग पर अड़े हुए हैं।

न टीचर न इंफ्रास्ट्रक्चर शुरू कर दिया बीटेक कोर्स

बीटेक कोर्सेज में न तो स्थाई शिक्षक हैं न ही जरूरी इंफ्रास्ट्रक्चर फिर भी यहा कोर्सेज को शुरू कर दिया गया। छात्रों का आरोप है कि सिर्फ मोटी फीस वसूली जा रही है और सुविधाएं न होने पर अब इन्हें बंद किया जा रहा है। ऐसे में अब हम यहा की डिग्री लेकर बाहर जाएंगे तो कौन नौकरी देगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस