लखनऊ(जागरण संवाददाता)। डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विवि (एकेटीयू) से संबद्ध इंजीनियरिंग व मैनेजमेंट कॉलेजों में नए सत्र 2018-19 से बीटेक ऑनर्स कोर्स भी शुरू होगा। इसकी उपाधि बीटेक कोर्स में दाखिला लेने वाले उन विद्यार्थियों को मिलेगी, जो 20 क्रेडिट की पढ़ाई ऑनलाइन मैसिव कोर्स (मूक्स) के माध्यम से करेंगे। यह निर्णय गुरुवार (22 मार्च) को एकेटीयू कुलपति प्रो. विनय कुमार की अध्यक्षता में हुई की बैठक में लिया गया।

आर्किटेक्चर फैकल्टी में मास्टर ऑफ प्लानिंग कोर्स शुरू होगा, जिसमें 20 सीटें होंगी। वहीं, सेंटर ऑफ एडवास स्टडीज में एमटेक नैनो टेक्नोलॉजी व एमटेक मेकाट्रोनिक्स कोर्स शुरू होगा। बैठक में शोध व नवाचारों को बढ़ावा देने के लिए पेटेंट ग्राट देने का फैसला किया गया। इसके अंतर्गत आवेदन करने वाले विद्यार्थियों व शिक्षकों को 40 हजार की ग्राट दी जाएगी। इसे पायलेट प्रोजेक्ट के तौर पर शुरू करने के लिए प्रथम चरण में चार लाख की धनराशि का प्रावधान किया गया है।

शिक्षकों की आकस्मिक मृत्यु होने पर मिलेगी परिवार को आर्थिक मदद

विवि में पहली बार टीचर्स वेलफेयर फंड बनाया गया है। इस फंड के अंतर्गत सरकारी व निजी कॉलेजों के शिक्षकों की आकस्मिक मृत्यु होने पर उनके परिवार को आर्थिक मदद दी जाएगी। इसके लिए 50 लाख का कारपस फंड बनाया गया है। कितनी धनराशि मदद के लिए दी जाए इसके लिए एक कमेटी का गठन किया जाएगा।

बेस्ट फैकल्टी अवार्ड देगा विश्वविद्यालय

शिक्षकों को और बेहतर कार्य करने की प्रेरणा देने के लिए एकेटीयू अब बेस्ट फैकल्टी अवार्ड देगा। इंजीनियरिंग व मैनेजमेंट कॉलेजों में टीचिंग व रिसर्च में जो शिक्षक अच्छा काम कर रहे हैं उन्हें सम्मानित किया जाएगा।

रिसर्च में ढिलाई बर्दाश्त नहीं: कुलपति

रिसर्च सुपरवाइजर की भूमिका निभा रहे शिक्षकों को कुलपति ने चेतावनी दी है कि वह अपने रिसर्च स्कॉलर की समीक्षा समय-समय पर करें। अगर रिसर्च ढंग से नहीं हुई तो कार्रवाई की जाएगी। वही आगामी सत्र से पीएचडी कोर्स में दाखिला लेने वाले विद्यार्थियों को ओरिएंटेशन प्रोग्राम के माध्यम से विवि की कार्य प्रणाली व शोध के लिए उपलब्ध संसाधनों के बारे में जानकारी दी गई।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस