लखनऊ (जेएनएन)। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मंगलवार को भाजपा के जातीय सम्मेलनों पर कटाक्ष किया कि भाजपा जाति में जाति निकाल रही है। उन्होंने कहा कि सच तो यह है कि भाजपा सबसे बड़ी जातिवादी पार्टी है। उसकी नीतियों से लोकतंत्र खतरे में है। वह ऐसे फैसले करती है जिससे लोगों को परेशानी हो और उनमें दुख पैदा हो।

'लोकतंत्र बचाओ, देश बचाओ साइकिल रैली के तहत मंगलवार को वाराणसी से पार्टी मुख्यालय पहुंचे 227 साइकिल यात्रियों को संबोधित करते हुए अखिलेश ने भर्तियों में गड़बड़ी को लेकर भी भाजपा सरकार पर हमला बोला। कहा, जो सरकार नौकरियां नहीं दे सकती, वह अयोग्य है। भाजपा सरकार पेपर लीक का बहाना कर भर्ती रोक देती है। बिजली विभाग, नलकूप चालक, पुलिस भर्ती में पेपर लीक के बहाने सरकार ने भर्तियां रोकी।

अखिलेश ने कहा कि मुख्यमंत्री कभी 20 लाख, कभी चार लाख, कभी एक लाख और कभी 40 लाख और कभी 70 लाख नौकरियां देने के वादे करते रहे हैैं। उनके बयान धोखा देते हैं। इसी तरह मजबूरी में सिर मुड़ाने वाले बीटीसी शिक्षकों के बारे में यह कहना कि उन्होंने पाप किए होंगे, युवाओं के प्रति उनकी मानसिकता को दर्शाता है।

इससे पहले वाराणसी के किशन दीक्षित के नेतृत्व में पार्टी मुख्यालय पहुंचे साइकिल यात्रियों का भव्य स्वागत किया गया। इस अवसर पर पार्टी के वरिष्ठ नेता किरनमय नंदा, रामगोविंद चौधरी, राजेंद्र चौधरी, प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल, ओम प्रकाश सिंह, राममूर्ति वर्मा, मनोज पांडेय, शैलेन्द्र यादव 'ललई, एसआरएस यादव, अरविंद कुमार सिंह, कंकर मुंजारे, विकास यादव, बृजेश यादव आदि उपस्थित रहे। 

Posted By: Ashish Mishra