लखनऊ, [निशांत यादव]। ट्रेनों के नंबर के आगे से हट गए शून्य ने जहां इस होली पर ट्रेन सफर करने वाले यात्रियों को राहत दी है। वहीं बुकिंग शुरू होते ही वेटिंग का शतक यात्रियों का पसीना भी बहा रहा है। नियमित होते ही इन ट्रेनों का एडवांस रिजर्वेशन पीरिएड (एआरपी) बढ़कर 120 दिन हो गया। रेलवे ने अगले साल मार्च का एडवांस रिजर्वेशन शुरू भी कर दिया है। होली पर मुंबई से लखनऊ आने वाले यात्रियों के सामने यशवंतपुर गोरखपुर एक्सप्रेस पुष्पक एक्सप्रेस जैसी डिमांड वाली ट्रेनों ने मुश्किल खड़ी कर दी। यशवंतपुर-गोरखपुर एक्सप्रेस में 14 मार्च को स्लीपर क्लास की वेटिंग 128 तक पहुंच गयी। 

कोरोना के कारण रेलवे ने क्लोन और फेस्टिवल दो तरह की स्पेशल ट्रेनों की शुरुआत की। क्लोन स्पेशल ट्रेनों का का एडवांस रिजर्वेशन पीरिएड तो 120 दिन पहले का रखा गया। जबकि फेस्टिवल स्पेशल ट्रेनों का एआरपी एक से दो माह के बीच रहा। इन फेस्टिवल स्पेशल ट्रेनों को रेलवे बार-बार विस्तार देता रहा। अब 15 नवंबर से रेलवे ने सभी ट्रेनों के नंबर के आगे से शून्य हटाकर उनको पूर्व की तरह नियमित कर दिया है। इससे सेंटर फॉर रेलवे इंफारमेशन सिस्टम (क्रिस) ने फेस्टिवल स्पेशल ट्रेनों का रिजर्वेशन पीरिएड 120 दिन का कर दिया। होली मनाने के लिए 10 से 16 मार्च तक लोग अपना रिजर्वेशन कराने में जुट गए हैं।

यह ट्रेनें देंगी राहतः मुंबई से लखनऊ आने के लिए एलटीटी लखनऊ सुपरफास्ट की स्लीपर क्लास में 14 व 16 मार्च को 513 सीटें, थर्ड एसी में 200 व सेकेंड एसी में 22 सीटें उपलब्ध हैं। इसी तरह पुष्पक एक्सप्रेस की इकोनोमी थर्ड एसी में 73, थर्ड एसी में 234 और सेकेंड एसी में 30 सीटें खाली हैं। कुशीनगर एक्सप्रेस की स्लीपर में वेटिंग है। जबकि एसी थर्ड व एसी सेकेंड में सीटें मिल रही हैं।

यशवंतपुर-गोरखपुर एक्सप्रेस में 14 मार्च को एसी थर्ड व एसी सेकेंड में सीटें उपलब्ध हैं। जबकि एसी थर्ड इकोनोमी की वेटिंग एक हो गई है। पुणे लखनऊ एक्सप्रेस की स्लीपर क्लास में 15 मार्च को 300 से अधिक सीटों की बुकिंग हो गई है। इन ट्रेनों में अब भी 315 से 380 सीटें उपलब्ध हैं। अहमदाबाद से आने वाली साबरमती एक्सप्रेस की स्लीपर में वेटिंग हो गई है। अहमदाबाद सुलतानपुर सुपरफास्ट में 65 सीटें खाली हैं। नई दिल्ली से आने वाली सभी ट्रेनों में 400 से 500 सीटें खाली हैं।

Edited By: Vikas Mishra