अंबेडकरनगर, संवाद सूत्र। माफिया खान मुबारक पर चौतरफा शिकंजा कसता जा रहा है। मंगलवार को पुलिस ने उसके बहनोई के घर पर बुलडोजर चलवा दिया। इस दौरान सैकड़ों की भीड़ जुटी रही, लेकिन पुलिस की सख्ती के चलते इसमें रुकावट डालने की किसी की हिम्मत नहीं हुई। बसखारी थाने के मकोइया में यह घर खान मुबारक की काली कमाई से बनाया गया था। खान मुबारक का नाम प्रदेश के टापटेन अपराधियों में शुमार है। उस पर विभिन्न थानों में हत्या, लूट, डकैती, अपहरण और रंगदारी जैसे दर्जनों मामले दर्ज हैं।

खान मुबारक की अवैध संपत्तियों का आकलन कर इसे नेस्तनाबूद करने के लिए पुलिस के हाथ अब रिश्तेदारों तक पहुंच गए हैं। मंगलवार को पुलिस ने मकोइया में बने उसके बहनोई के मकान को ध्वस्त कराया। इसके पूर्व उसकी बहन शब्बो के नाम पर हंसवर में बने कांप्लेक्स तथा हरसंहार में बने खान मुबारक के पुश्तैनी मकान को ढहाया गया था। साथ ही उसकी तमाम चल-अचल संपत्तियां सील की गई थीं। हाल में लखनऊ स्थित कांप्लेक्स को भी पुलिस ने सील किया था। जहांगीरगंज में खान मुबारक के गुर्गे रेहान तथा टांडा में उसके दाहिने हाथ परवेज पर भी पुलिस का चाबुक चला।

परवेज को एसटीएफ ने गोरखपुर में मुठभेड़ में मार गिराया तो उसके बहनोई उमर पर खान मुबारक की काली कमाई इकठा करने का आरोप है। पीडब्ल्यूडी का दावा है कि उसके बहनोई ने विभाग की जमीन पर अतिक्रमण कर मकान बनवाया था। इन्हीं आरोपों के चलते हंसवर और बसखारी पुलिस तथा पीडब्ल्यूडी के संयुक्त अभियान में मकोइया में बड़ी कार्रवाई की गई। इस दौरान एसडीएम टांडा अभिषेक पाठक, सीओ सिटी अशोक कुमार सि‍ंह, पीडब्ल्यूडी के अधिकारीगण मौजूद रहे। थानाध्यक्ष हंसवर प्रदीप सि‍ंह ने बताया कि खान मुबारक के अन्य सहयोगियों की संलिप्तता का बारीकी से अध्ययन किया जा रहा है। जल्द ही उन संपत्तियों पर भी कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Anurag Gupta