लखनऊ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को एक बार फिर जान से मारने की धमकी मिली। धमकी भरा यह संदेश रविवार शाम डायल 112 के वॉट्सऐप नंबर पर भेजा गया था। पुलिस ने पूरे मामले से पुलिस कमिश्नर को अवगत कराया था। मामले की गंभरता को देखते हुए थाना सुशांत गोल्फ सिटी में चौकी प्रभारी अहमामऊ की तहरीर पर देर रात मुकदमा दर्ज किया गया। 

विवेचना में साइबर सेल द्वारा फोन नंबर की जांच में लोकेशन आगरा की मिली। जिसके बाद सुशांत गोल्फ सिटी थाना प्रभारी सचिन सिंह के साथ टीम ने ग्राम अकोला थाना मांगरोल आगरा से आरोपित नाबालिग को दबोचा। पूछताछ में उसने बताया कि विद्यालय बंद होने व पुलिस द्वारा घर के बाहर मैच ना खेलने देने से वह नाराज था। जिसके कारण ये मैसेज किया था। नाबालिग के पिता सरकारी प्राथमिक विद्यालय में मास्टर है।

पुलिस का कहना है कि नाबालिग को बाल न्यायालय में पेश किया जा रहा है। पुलिस ने नाबालिग के पास से एक मोबाइल फोन बरामद किया है, जिससे उसने धमकी भरा मैसेज भेजा था। छानबीन में सामने आया है कि नाबालिग ने मोबाइल फोन से संदेश डिलीट कर दिया था। पुलिस अब फोरेंसिक टीम की मदद से डिलीट किए गए संदेश को रिकवर करने का प्रयास कर रही है। पुलिस का कहना है कि नाबालिग से अन्य बिंदुओं पर पूछताछ की जा रही है। यह पता लगाया जा रहा है कि संदेश भेजने के पीछे नाबालिग के अलावा कोई अन्य तो नहीं था।

सात जुलाई को भी मिली थी धमकी 

बता दें, इसके पहले सात जुलाई को डायल 112 के वॉट्सऐप नंबर पर मुख्यमंत्री को जान से मारने की धमकी भरा मैसेज मिला। मैसेज मिलते ही पुलिस महकमा अलर्ट हो गया। छानबीन में पता चला कि धमकी भरा मैसेज कानपुर देहात से भेजा गया है। मामले में 12वीं के छात्र को पकड़ा गया। छात्र को जुवेनाइल कोर्ट के समक्ष पेश किया गया। 

21 मई की देर रात भी आया था धमकी भरा मैसेज 

बता दें, इससे पहले भी मुख्यमंत्री को जान से मारने की धमकी 21 मई की देर रात लगभग साढ़े बारह बजे यूपी पुलिस के 112 मुख्यालय में एक वॉट्सऐप मैसेज के जरिए मिली थी। यह मैसेज डायल 112 की सोशल मीडिया डेस्क के वॉट्सऐप नंबर पर आया था। मैसेज में लिखा था, 'सीएम योगी को मैं बम से मारने वाला हूं। वह (एक खास समुदाय का नाम लिखा) की जान का दुश्मन है।' 

 

Edited By: Divyansh Rastogi