लखनऊ, जेएनएन। समाजवादी पार्टी तथा बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती की कल लखनऊ में होने वाली संयुक्त प्रेस वार्ता को लेकर राजनीति के पंडित काफी कयास लगा रहे हैं। लखनऊ में कल मायावती व अखिलेश यादव उसी ताज होटल में प्रेस कांन्फ्रेंस करेंगे जहां पर करीब दो वर्ष पहले अखिलेश यादव ने कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ प्रेस कांन्फ्रेंस की थी। इनकी प्रेस कान्फ्रेंस 29 जनवरी 2017 को हुई थी।

उत्तर प्रदेश में एक महागठबंधन के प्रयास में लगे अखिलेश यादव के साथ अब तो कांग्रेस ने आने से इन्कार कर दिया है। सोशल मीडिया पर अब समाजवादी पार्टी व बहुजन समाज पार्टी की दोस्ती की मजबूती को लेकर जोरदार चर्चा है। समाजवादी पार्टी व कांग्रेस की दोस्ती तो दो वर्ष भी नहीं चल सकी अब नए दोस्त के रूप में समाजवादी पार्टी के साथ बहुजन समाज पार्टी है।

इनकी प्रेस कान्फ्रेंस के स्थान (ताज होटल) को लेकर भी लोग चटखारे लेकर चर्चा कर रहे हैं। अखिलेश यादव ने करीब दो वर्ष पहले इसी होटल में राहुल गांधी के साथ प्रेस कान्फ्रेंस की थी। उस समय भी लंबी दोस्ती की कसम ली गई थी और उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में दोनों साथ मिलकर लड़े थे। परिणाम खराब आने के बाद इन दोनों की दोस्ती किनारे होती गई। अखिलेश यादव भले ही दोस्ती को लेकर बयान देते रहे, लेकिन राहुल गांधी ने दोस्ती पर कुछ भी नहीं कहा था।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान धुर विरोधी रहे समाजवादी पार्टी व बहुजन समाज पार्टी अब लोकसभा चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश में बड़ा राजनीतिक मंच बनाने की ओर है। कल लखनऊ में इन दोनों के बीच गठबंधन का औपचारिक एलान हो सकता है। केंद्र से नरेंद्र मोदी की सरकार को हटाने के लिए यूपी में महागठबंधन की जगह अब सिर्फ गठबंधन हो रहा है।  

Posted By: Dharmendra Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप