लखनऊ, जेएनएन। लगातार बढ़ते हार्ट अटैक चिंताजनक है। पहले हार्ट अटैक की औसत आयु 55 से 60 वर्ष मानी जाती थी। वहीं अब 40 से 45 वर्ष हो गई। इसके अलावा 30 वर्ष से कम आयु के युवा भी गिरफ्त में हैं। ऐस में केजीएमयू के हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. अक्षय प्रधान ने एबीसीडीई प्रोटोकॉल को फॉलो करने की सलाह दी।

प्रोटोकॉल का करें पालन  

  • ए- एल्कोहल को करें तौबा
  • बी- बीपी का रखें ध्यान
  • सी- सिगरेट बंद, कोलेस्ट्राल कंट्रोल
  • डी- डायबिटीज कंट्रोल, डाइट में कार्बोहाइड्रेट व नमक कम
  • ई- एक्सरसाइज। 30 मिनट सप्ताह में पांच दिन अनिवार्य 
  • बीमारी के कारण
  • अनियमित दिनचर्या
  •  भागदौड़ व तनाव भरी जीवनशैली
  •  फास्टफूड व तैलीय खाद्यपदार्थों का अत्यधिक सेवन करना
  •  पर्याप्त नींद न लेना
  •  मोटापा
  •  धूम्रपान व शराब का सेवन करना

बीमारी से बचाव 

  1.  नियमित व्यायाम करें।
  2.  सुबह-शाम टहलने की आदत डालें
  3.  ठंड बढऩे पर रोगी सुबह टहलने के समय में बदलाव कर लें
  4.  उच्च रक्तचाप के मरीज सर्दी में अधिक हार्ड एक्टीविटी करने से बचें
  5.  ठंडा पानी, कोल्ड ड्रिंक न पिए - गुनगुना पानी व गर्म पेय पदार्थ का सेवन करें
  6.  ठंड बढऩे पर कपड़े तीन-चार लेयर में पहनें
  7.  वजन पर नियंत्रण रखें
  8.  नकारात्मक सोचना व तनाव से बचें
  9.  पौष्टिक व संतुलित आहार लें 
  10.  नियमित समयांतराल में रक्तचाप की जांच कराएं
  11.  ब्लड प्रेशर, शुगर के रोगी दवा बंद न करें। 
  12.  समय-समय पर चिकित्सक से परामर्श लें

बीमारी के लक्षण

सीने में दर्द, शरीर में भारीपन, पसीना आना, घबराहट व कमजोरी महसूस हृदय रोग के लक्षण हैं।

 

Posted By: Anurag Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप