लखनऊ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश में डेंगू, चिकनगुनिया और कालाजार से लोगों को बचाने के लिए प्रयास और तेज कर दिए गए हैं। अब तक डेंगू के कुल 2942 रोगी मिले हैं, जबकि चिकनगुनिया के 24 व कालाजार के 37 मरीज सामने आ चुके हैं। वहीं, फीरोजाबाद में डेंगू का प्रकोप थामने को सरकारी तंत्र पूरी ताकत झोंक रहा है मगर, हालात भयावह होते जा रहे हैं। गुरुवार को पिछले 24 घंटे के दौरान 10 बच्चों और किशोरों सहित 12 लोगों की मौत हो गई। इनमें से एक बालक ने तो अस्पताल के रास्ते में ही दम तोड़ दिया।

स्वास्थ्य विभाग की ओर से फीरोजाबाद में मरीजों के बेहतर इलाज के लिए विशेषज्ञ डाक्टरों की दो और टीमें भेजी गई हैं। निदेशक (संचारी रोग) डा.जीएस वाजपेयी सहित कुल 10 विशेषज्ञ डाक्टर एक हफ्ते तक वहां कैंप करेंगे। मरीजों को इलाज के लिए बेहतर संसाधन उपलब्ध कराने के साथ-साथ स्वच्छता अभियान भी चलाया जा रहा है।

आसपास के जिलों के विशेषज्ञ डाक्टर भी तैनात : उत्तर प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य महानिदेशक डा.वेदब्रत सिंह ने बताया कि फीरोजाबाद, मथुरा और आगरा आदि जिलों में जरूरत के अनुसार आसपास के जिलों के विशेषज्ञ डाक्टर भी तैनात किए गए हैं। घर-घर सर्वे कर वायरल बुखार से पीड़ित रोगियों को दवाओं की किट भी वितरित की जा रही है। जिलों की मैपिंग कर हाट स्पाट पहले ही चिन्हित किए जा चुके हैं। महानिदेशालय में बनाए गए कंट्रोल रूम की मदद से सभी जिलों की मानीटरिंग की जा रही है।

फीरोजाबाद भेजी गई नगर विकास की तीन सदस्यीय टीम : नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन के निर्देश पर नगर विकास विभाग के मुख्यालय से तीन सदस्यीय टीम फीरोजाबाद भेजी गई है। यह टीम यहां डेंगू की रोकथाम व साफ-सफाई पर नजर रखेगी। इसमें स्वच्छ भारत मिशन के अफसर शामिल हैं। इन्हें फीरोजाबाद में साफ-सफाई के अलावा विसंक्रमण व्यवस्था युद्धस्तर पर संपन्न कराने व उनकी निगरानी करने के निर्देश दिए गए हैं।

ब्रज में कुल मौतें 272 : ब्रज क्षेत्र में 24 घंटे में 19 रोगियों की मृत्यु हुई है। इन्हें मिलाकर मरने वालों की कुल संख्या 272 हो गई है। संचारी रोग निदेशक डा.जीएस वाजपेयी के नेतृत्व में लखनऊ, मेरठ, गाजियाबाद, बरेली के विशेषज्ञों की टीम गुरुवार से ही फीरोजाबाद में डेरा डाल चुकी है। टीम ने गुरुवार को विभिन्न क्षेत्रों में जाकर बीमार और बीमारी के बारे में जानकारी ली। उधर, मैनपुरी में तीन, एटा में दो और मथुरा व कासगंज में एक-एक मरीज की मौत हो गई। इन जिलों में कई मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई है। आगरा के एसएन अस्पताल और निजी अस्पतालों में आसपास के जिलों के सैकड़ों मरीज भर्ती हैं।

अकड़ रहा बच्चों का शरीर : आगरा के एसएन मेडिकल कालेज के बाल रोग विभाग के डा. नीरज यादव ने बताया कि डेंगू के डी-2 स्ट्रेन में तेज बुखार आने के साथ ही शरीर में पानी की कमी हो रही है, खून गाढ़ा हो रहा है। इससे बच्चों का शरीर अकड़ रहा है। बेहोशी की हालत में बच्चों को भर्ती कराया जा रहा है।

Edited By: Umesh Tiwari