लखनऊ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी ने विधान परिषद चुनाव शिक्षक सीट पर शर्मा गुट का किला ढहा दिया है। गुरुवार से शुरू हुई विधान परिषद की शिक्षक व स्नातक कोटे की 11 सीटों पर मतगणना शुक्रवार को भी जारी है। इस बार के चुनाव में भाजपा का दबदबा साफ दिखाई पड़ा। भाजपा को सधी रणनीति तथा संगठन की सक्रियता का पूरा लाभ मिला है। भाजपा ने प्रदेश में शिक्षा की राजनीति पर बीते 48 वर्ष से काबिज शर्मा गुट का सफाया कर दिया है।

विधान परिषद की शिक्षक क्षेत्र की छह सीटों में से भाजपा ने तीन पर कब्जा जमाया है। दो पर निर्दलीय ने जीत दर्ज की है, जबकि एक सीट सपा के खाते में गई है। कांग्रेस को एक भी सीट पर सफलता नहीं मिली है। वहीं, स्नातक कोटे की सीटों पर भाजपा व सपा में कांटे की टक्कर चल रही है। सबसे बड़ा उलटफेर इलाहाबाद-झांसी खंड स्नातक सीट पर हुआ है। यहां चार बार के भाजपा विधायक यज्ञदत्त शर्मा चुनाव हार गए हैं। उन्हें सपा के डॉ. मान सिंह यादव ने हराया है। अभी तक हुई मतगणना से मिले रुझानों के अनुसार स्नातक कोटे की पांच सीटों में एक सपा जीत चुकी है, जबकि एक सीट पर वह आगे चल रही है। भाजपा भी दो सीटों पर आगे चल रही है। एक सीट पर निर्दलीय प्रत्याशी ने बढ़त बनाई है।

उत्तर प्रदेश शिक्षक और स्नातक की सीटों पर प्रदेश में शिक्षक संघ के नेता ओमप्रकाश शर्मा गुट का एकछत्र राज कायम था। इस बार भाजपा ने लक्ष्य को भेद दिया और शर्मा गुट के सूरमा ढेर हो गए हैं। इसमें ओम प्रकाश शर्मा भी हैं।  मेरठ से शिक्षक राजनीति के दिग्गज ओम प्रकाश शर्मा को तगड़ा झटका लगा है। मेरठ से आठ बार विधान परिषद सदस्य रहे ओम प्रकाश शर्मा खुद तो चुनाव हारे ही हैं, उनके गुट (शर्मा गुट) को भी अपेक्षित सफलता नही मिली है।

भाजपा के श्रीचंद शर्मा ने मेरठ खंड क्षेत्र, उमेश द्विवेदी ने लखनऊ खंड क्षेत्र तथा हरि सिंह ढिल्लों ने बरेली-मुरादाबाद खंड शिक्षक क्षेत्र सीट पर जीत दर्ज की। निर्दलीय डॉ. आकाश अग्रवाल ने आगरा खंड क्षेत्र तथा धु्रव कुमार त्रिपाठी ने गोरखपुर-फैजाबाद खंड शिक्षक क्षेत्र से जीत दर्ज की। भाजपा के गढ़ माने जाने वाले वाराणसी खंड शिक्षक क्षेत्र सीट पर समाजवादी पाटी के लाल बिहारी यादव ने जीत दर्ज की। इसको समाजवादी पार्टी की बड़ी कामयाबी माना जा रहा है। इस बार के चुनाव में भाजपा का दबदबा साफ दिखाई पड़ा। मेरठ से शिक्षक राजनीति के दिग्गज ओम प्रकाश शर्मा को तगड़ा झटका लगा है। मेरठ से आठ बार विधान परिषद सदस्य रहे ओम प्रकाश शर्मा खुद तो चुनाव हारे ही हैं, उनके गुट (शर्मा गुट) को भी अपेक्षित सफलता नही मिली है।

मेरठ में बना इतिहास

मेरठ मे शिक्षक सीट पर भाजपा प्रत्याशी श्रीचंद शर्मा को चुनाव अधिकारी ने जीत का प्रमाण पत्र दे दिया है। श्री चंद ने आठ बार के विजेता रहे दिग्गज ओमप्रकाश शर्मा को पराजित किया है। मेरठ खंड शिक्षक सीट पर भाजपा प्रत्याशी श्रीचंद शर्मा ने सभी वरीयता के मतों की गणना के बाद सर्वाधिक 8222 मत प्राप्त किए। उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी आठ बार के विधान परिषद सदस्य ओमप्रकाश शर्मा को महज 3682 वोट मिले। श्रीचंद जीत के लिए निर्धारित 9,070 वोटों का आंकड़ा प्राप्त नहीं कर पाए, लिहाजा तड़के चार बजे सहायक रिटर्निंग अधिकारी अपर आयुक्त रजनीश राय ने बताया कि चुनाव आयोग से दिशा निर्देश मांगे गए हैं कि क्यों न भाजपा प्रत्याशी को विजयी घोषित कर दिया जाए।

सपा प्रत्याशी को बताने लायक भी नहीं मिले वोट : विधान परिषद के चुनाव में समाजवादी पार्टी ने भी शिक्षक और स्नातक पद के लिए प्रत्याशी उतारा। यहां पर सपा के प्रत्याशी धर्मेंद्र को प्रथम चरण में 407, द्वितीय चरण में 345 और आखिरी चरण में 236 वोट मिले। इनको कुल 1088 वोट मिले हैं।

भाजपा के खाते में बरेली-मुरादाबाद शिक्षक सीट

बरेली-मुरादाबाद शिक्षक एमएलसी चुनाव में भाजपा के हरि सिंह  ढिल्लो ने 7963 वोटों से जीत दर्ज की। उन्हें 12827 वोट मिले, जबकि दूसरे स्थान पर रहे सपा प्रत्याशी संजय मिश्रा 4864 वोट ही पा सके। तीसरे चरण में सभी 26803 वोटों की प्रथम वरीयता की गिनती हो गई। इनमें 1250 निरस्त हुए। कांग्रेस के प्रत्याशी मेहंदी हसन को महज 276 वोट मिले, जबकि निर्दलीय प्रत्याशी डॉ. राजेन्द्र गंगवार को 1162 और राम बाबू शास्त्री ने 2016 मत हासिल किए। अभिषेक द्विवेदी और पुष्पेंद्र कुमार ऐसे निर्दलीय प्रत्याशी थे, जिन्हें महज चार-चार वोट मिले।

शिक्षक लखनऊ खंड निर्वाचन से भाजपा के उमेश कुमार द्विवेदी विजयी

लखनऊ में शिक्षक सीट पर भाजपा के उमेश कुमार द्विवेदी को कुल 7065 मत मिले। इन्होंने डॉ महेंद्रनाथ राय को 3247 वोट से हराया। शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र के लिए तड़के तक चली मतगणना में भाजपा प्रत्याशी उमेश कुमार द्विवेदी ने जीत दर्ज की। 

यहां कुल पड़े 17985 मतों में से 17077 वैध मतों की गिनती में गिनती में उमेश द्विवेदी को 7065 वोट मिले। निर्दलीय प्रत्याशी डा.महेंद्र नाथ राय को 3818 मत मिले। समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी उमाशंकर को 2238 प्रथम वरीयता मत मिले। निर्दलीय प्रत्याशी डा.आरपी मिश्र को 1975, शाह आलम खान को 1269 और सोहन लाल वर्मा को 986 मत मिले थे। इस तरह भाजपा प्रत्याशी को जीत दर्ज करने में सफल रहे। 

आगरा में निर्दलीय प्रत्याशी डॉ. आकाश अग्रवाल जीते

आगरा में शिक्षक सीट एमएलसी चुनाव में निर्दलीय प्रत्याशी डॉ. आकाश अग्रवाल ने जीत दर्ज की है। वह मंडी समिति में मतगणना स्थल के बाहर समर्थकों के साथ जश्न मना रहे हैं। डॉ. आकाश अग्रवाल ने भाजपा के भाजपा प्रत्याशी डॉ. दिनेश कुमार वशिष्ठ को शिकस्त दी। आगरा खंड स्नातक एवं शिक्षक विधान परिषद सदस्य (एमएलसी) चुनाव की मतगणना के दूसरे दिन शिक्षक सीट पर निर्दलीय प्रत्याशी डॉ आकाश अग्रवाल जीत गए हैं।

दूसरी वरीयता में डॉ आकाश को 6690 वोट मिले हैं जबकि भाजपा प्रत्याशी डॉ दिनेश वशिष्ठ को 4319 वोट मिले। उन्‍होंने भाजपा उम्‍मीदवार दिनेश वशिष्‍ठ को 2376 वोटों से हरा दिया है। अब आकाश अग्रवाल को विजयी प्रमाण पत्र मिलना बाकी रह गया है। यहां पर गुरुवार रात करीब एक घंटे हंगामे के बाद देर शाम भाजपा प्रत्याशी ने पुनर्मतगणना के लिए आवेदन किया, जिसे प्रशासन ने खारिज कर दिया। दूसरे चरण में निर्दलीय प्रत्याशी डॉ. आकाश अग्रवाल को 5798 और भाजपा प्रत्याशी डॉ. दिनेश वशिष्ठ को 3685 वोट मिले। पहले राउंड में भाजपा प्रत्याशी को 2718, जबकि निर्दलीय प्रत्याशी को 2601 वोट मिले थे। निवर्तमान एमएलसी जगवीर किशोर जैन पहले राउंड में ही मुकाबले से बाहर हो गए। 

गोरखपुर-फैजाबाद खंड में ध्रुव त्रिपाठी की हैट्रिक

गोरखपुर-फैजाबाद शिक्षक सीट पर भाजपा समर्थित उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ (शर्मा गुट) के ध्रुव त्रिपाठी ने लगातार तीसरा चुनाव जीता है। उन्होंने निकटतम प्रतिद्वंद्वी अजय सिंह को 1935 मतों से दी शिकस्त। निर्दल राजीव यादव को तीसरा स्थान मिला। यहां समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी अवधेश यादव चौथे स्थान पर रहे। ध्रुव कुमार त्रिपाठी ने जीत की हैट्रिक लगाई है। इस सीट पर लगातार तीन बार जीतने वाले वह पहले प्रत्याशी बन गए हैं। उन्होंने अपने निकतटम प्रतिद्वंद्वी अजय सिंह को 1935 मतों से पराजित किया।

ध्रुव को 11154 जबकि अजय सिंह को 9219 वोट मिला। चुनाव का फैसला दूसरी वरीयता के मतों की गिनती के बाद हुआ। 16 में से 14 प्रत्याशी परिणाम की दौड़ से बाहर (एलिमिनेट) होते गए। नई पेंशन के खिलाफ चुनाव लडऩे वाले निर्दल प्रत्याशी राजीव यादव ने 4529 मत हासिल करते हुए तीसरा स्थान प्राप्त किया है। चौथे स्थान पर समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी अवधेश कुमार यादव रहे, उन्हेंं 2667 वोट मिले। मंडलायुक्त/ रिटर्निंग अधिकारी जयंत नार्लीकर ने विजयी प्रत्याशी को प्रमाण पत्र प्रदान किया।

वाराणसी शिक्षक सीट पर समाजवादी पार्टी के लाल बिहारी यादव विजयी

एमएलसी वाराणसी खंड शिक्षक कोटे की सीट पर समाजवादी पार्टी के लाल बिहारी यादव विजयी रहे। उन्होंने प्रतिद्वंद्वी शिक्षक नेता ओम प्रकाश शर्मा गुट के डा. प्रमोद कुमार मिश्र को 418 वोट से शिकस्त दी। लाल बिहारी को 7248 वोट तो वहीं मिश्र को 6830 वोट मिले। 

स्नातक कोटे की सीटों पर भाजपा-सपा में कांटे की टक्कर

इलाहाबाद-झांसी खंड स्नातक सीट पर 24 साल तक राज करने वाली भाजपा को सपा ने करारी शिकस्त दी है। प्रथम वरीयता के वोटों में सपा प्रत्याशी डा. मान सिंह यादव को 19,421 वोट मिले जबकि भाजपा के डा. यज्ञदत्त शर्मा को 16,888 वोट मिले। सपा ने यहां चार बार के विधायक यज्ञदत्त शर्मा को हराया है।

मेरठ खंड स्नातक सीट पर आठ राउंड की मतगणना के बाद भाजपा प्रत्याशी दिनेश गोयल ने चार बार के विजयी निर्दलीय प्रत्याशी हेम सिंह पुंडीर से 1757 वोटों की बढ़त बना ली थी। दिनेश गोयल को 27049 वोट मिले जबकि हेम सिंह पुंडीर को 9542 वोट मिले।

आगरा खंड स्नातक सीट पर भाजपा प्रत्याशी मानवेंद्र सिंह ने शुरुआत में पिछड़ने के बाद चौथे चरण से बढ़त बनानी शुरू कर दी थी। सातवें राउंड में मानवेंद्र सिंह 3818 वोटों से आगे चल रहे थे। उन्हें 31062 वोट मिले हैं जबकि दूसरे स्थान पर सपा प्रत्याशी डा. असीम यादव को 27244 वोट मिले हैं। तीसरे नंबर पर निर्दलीय प्रत्याशी हरि किशोर तिवारी को 19020 वोट मिले हैं।

वाराणसी खंड स्नातक सीट पर पांचवें चक्र में भी सपा की बढ़त बरकरार थी। सपा के आशुतोष सिन्हा को 22253 व भाजपा प्रत्याशी व निवर्तमान विधायक केदारनाथ सिंह को 19924 वोट मिले हैं।

नोकझोंक के बीच लखनऊ स्नातक निर्वाचन खंड की मतगणना शुक्रवार देर रात तक जारी रही। कांटे के मुकाबले में तीसरे राउंड की समाप्ति के बाद निर्दलीय प्रत्याशी कांति सिंह भाजपा के अवनीश कुमार सिंह से महज 1149 वोटो से आगे थीं। हालांकि, पहले राउंड में एक हजार का अंतर था, जो तीसरा राउंड आते-आते घट गया। परिणाम शनिवार तक आने की उम्मीद है।

झांसी में पुलिस और भाजपाइयों के बीच हाथापाई

झांसी में मतगणना केंद्र के बाहर आज उस समय विवाद हो गया जब भाजपाई मतगणना में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए जबरन मतगणना केंद्र में घुसने लगे। पुलिस ने रोका, तो वह पुलिस से उलझ गए और धक्का-मुक्की करते हुए आगे बढऩे लगे। इससे कुछ सिपाही गिर पड़े। पुलिस ने बल का प्रयोग किया तो दूसरा पक्ष भी हाथापाई पर उतर आया। करीब दो घंटे तक हंगामा चलता रहा। एक तरफ भाजपा विधायकों के नेतृत्व में कार्यकर्ता धरना देने लगे तो दूसरी ओर सपा कार्यकर्ताओं ने पुलिस प्रशासन के समर्थन में धरना दिया। बाद में भाजपा प्रत्याशी यज्ञदत्त शर्मा के समझाने पर कार्यकर्ताओं ने धरना खत्म किया। इसके बाद सपा कार्यकर्ता भी उठ गए।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021