लखनऊ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश संयुक्त बीएड प्रवेश प्रक्रिया के दूसरे चरण में 30 हजार से अधिक अभ्यर्थियों के पंजीकरण के बाद रविवार यानी 29 नवंबर से सीटों का आवंटन शुरू हो गया। बीएड प्रवेश प्रक्रिया की राज्य समन्यवक डॉ. अमिता बाजपेयी ने बताया कि शनिवार रात तक अभ्यर्थियों द्वारा सीट लॉक करने की प्रक्रिया चली। उसके बाद आज सुबह से उन्हें सीट आवंटन की प्रक्रिया शुरू कर दी गई। 

अमिता ने बताया कि जिन अभ्यर्थियों ने अधिक से अधिक चॉइस भरी है उन्हें उसका लाभ जरूर मिलेगा। रविवार दोपहर 12 बजे तक टीसीएस कॉलेज अलॉट कर फाइनल सूची हमें दे देगा। उसके बाद अलॉटमेंट सूची को हम क्रॉस चेक करेंगे। शाम तक कॉलेज अलॉट कर दिए जाएंगे। अभ्यर्थी शाम तक वेबसाइट पर अपना कॉलेज देख सकते हैं। अलॉटमेंट में पूरी तरह से पारदर्शिता रखी जा रही है। 

उन्होंने बताया कि इस बार अभ्यर्थियों को ईडब्ल्यूएस के तहत 641 सीटों पर भी प्रवेश दिया जा रहा है। यह व्यवस्था केवल सरकारी और अनुदानित महाविद्यालयों में ही लागू होगी। साथ ही जिन अभ्यर्थियों को निजी शिक्षण संस्थानों में निशुल्क प्रवेश की सुविधा दी जाती थी वे इस वर्ष लागू नहीं होगी।

गौरतलब हो कि प्रदेश के बीएड कॉलेजों में दाखिले के लिए 4,31,904 अभ्यर्थियों ने ऑनलाइन आवेदन किया था। 9 अगस्त को हुई संयुक्त प्रवेश परीक्षा में 3,56,946 अभ्यर्थी शामिल हुए थे। पांच सितंबर को इनके नतीजे भी जारी कर दिए गए। उसके बाद ऑनलाइन ऑफ कैम्पस काउंसलिंग की प्रक्रिया शुरू हुई। पहली बार काउंसलिंग 21 सितम्बर से प्रस्तावित थी। लेकिन, कई विश्वविद्यालयों की अन्तिम वर्ष की परीक्षाएं न होने के कारण उसे टाला गया। बाद में 19 अक्टूबर से काउंसलिंग शुरू हुई थी और 8 नवंबर तक काउंसलिंग की प्रक्रिया चली। प्रोफेसर अमिताभ बाजपेई ने बताया कि इस बार कोरोना संक्रमण से उपजे हालात के कारण प्रवेश प्रक्रिया में विलंब हुआ है। प्रयास किया जा रहा है कि दिसंबर में ही प्रक्रिया पूरी कर ली जाए।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021