लखनऊ, जेएनएन। Good News: मरीज के एनल कैनाल (मल मार्ग-गुदा नाल) के ऑपरेशन आसान होंगे। इसके लिए केजीएमयू व आइआइटी कानपुर ने प्रोक्टोस्कोप तैयार किया है। नए उपकरण में खासियत यह है कि ऑपरेशन के वक्त उपकरण की साइज को एडजेस्ट किया जा सकेगा। हर मरीज में अलग-अलग साइज के उपकरण की व्यवस्था करने का झंझट खत्म होगा।

केजीएमयू व कानपुर आइआइटी ने एनल कैनाल के ऑपरेशन के लिए प्रोक्टोस्कोप बनाया है। जनरल सर्जरी विभाग के डॉ. अरशद अहमद के मुताबिक, गलत खानपान से पाचन संबंधी परेशानी बढ़ी हैं। इससे एनल कैनाल में पाइल्स, फिशर, फिस्टुला समेत कई बीमारियां हो रही हैं। इन रोगों से पीड़ित 30 से 40 फीसद मरीजों में ऑपरेशन की आवश्यकता होती है। ऐसे में दो नए आधुनिक प्रोक्टोस्कोप विकसित किए गए हैं। इन प्रोक्टोस्कोप के आकार को मरीज के हिसाब से घटाया या बढ़ाया जा सकता है। 

वहीं, एनल कैनाल में प्रवेश के बाद भी भी प्रोक्टोस्कोप से ही ऑपरेटिंग विंडों का कम या ज्यादा किया जा सकता है। साथ ही दोबारा प्रयोग में भी लाया जा सकता है। कारण, इस उपकरण को मरीज पर प्रयोग से पहले एक सिलिकॉन का कवर लगाया जाता है। मरीज के ऑपरेशन के बाद इसे हटाया जाता है। वहीं नया सिलिकॉन का कवर चढ़ाकर दूसरे मरीज के ऑपरेशन में प्रयोग में लाया जा सकता है। इससे मरीज में संक्रमण का खतरा भी टलेगा। इस उपकरण विकसित करने में आइआइटी कानपुर के डॉ. जे रामकुमार व डॉ. सिद्धान्त श्रीवास्तव का सहयोग रहा।

 

Posted By: Divyansh Rastogi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस