लखनऊ। अवैध खनन रोकने पहुंची चित्रकूट वन टीम पर सौ से अधिक लोगों ने हमला कर दिया। वन दारोगा व अन्य कर्मचारियों को इतना मारा गया कि वन वाचर की मौत हो गई। दो वन दारोगा समेत पांच लोग घायल हैं। घायलों को जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया जिसमें दो की हालत नाजुक होने पर इलाहाबाद रेफर कर दिया गया। हमलावर सरकारी रायफल, बंदूक, कारतूस व मोबाइल लूट ले गए।

घटना चित्रकूट जिले के भरतकूप चौकी क्षेत्र के पहरा गांव में व्यासकुंड पहाड़ के पास की है। यह क्षेत्र वन विभाग के अधीन है। इस पहाड़ पर मौरंग खनन की शिकायत पर शनिवार देर रात वन विभाग की टीम नीली बत्ती लगी सरकारी गाड़ी से मौके पर पहुंची। अचानक तमाम लोग गाड़ी का पीछा करने लगे। यह देखकर चालक ने गाड़ी दूसरे रास्ते में ले जाने का प्रयास किया तो लोगों ने उन्हें घेर लिया। जब वन दारोगा ने बताया कि वे वन विभाग के हैं तो लोगों ने हमला कर दिया। बोलरो के अंदर ही बैठे कर्मचारियों को इतना पीटा कि सभी लहुलुहान हो गए। हमलावरों ने सभी को वाहन से नीचे घसीटकर जमकर पीटा। इस बीच पुलिस की गाड़ी देखकर हमलावर असलहे, कारतूस व मोबाइल लेकर भाग गए। घायल वन दारोगा हरिशंकर सिंह, गिरधारी लाल यादव, वन वाचर रामस्वरूप यादव, सुरक्षा श्रमिक चंद्रशेखर, कल्लू व चालक ललक सिंह को जिला चिकित्सालय लाया गया। जिलाधिकारी नीलम अहलावत व पुलिस अधीक्षक पवन कुमार जिला चिकित्सालय पहुंचे। इलाज के दौरान वन वाचर रामस्वरूप यादव की मौत हो गई। कल्लू व चंद्रशेखर की हालत गंभीर होने पर उनको इलाहाबाद रेफर किया गया। डीआइजी ज्ञानेश्वर तिवारी भी घटना की जानकारी लेने मुख्यालय पहुंचे। पुलिस ने दो दर्जन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर दो युवकों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि रायफल व कारतूस बरामद हो चुकी है।

बालू माफिया ने दारोगा को पीटा

बस्ती में हाइवे के किनारे बेतरतीब खड़े ट्रकों को हटवाने पर ढाबा संचालक व बालू माफिया अरविंद सिंह, उनके पुत्र व कुछ अन्य लोग ने विक्रमजोत चौकी इंचार्ज सर्वेश यादव से मारपीट की और वर्दी भी फाड़ दी। आरोपियों की तलाश में पुलिस ने दबिश दी लेकिन अब तक गिरफ्तारी नहीं हुई है। चौकी इंचार्ज की तहरीर पर पुलिस ने अरविंद सिंह, भाई बृजेश सिंह, पुत्र आलोक प्रताप सिंह, सहयोगी रामभवन यादव सहित 15 अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। वहीं अरविंद सिंह ने चौकी इंचार्ज पर ट्रक चालकों से मारपीट करने का आरोप लगाया है। सत्ता का करीबी अरविंद अवैध बालू खनन के लिए भी चर्चित है।

Posted By: Nawal Mishra