लखनऊ। पूर्वाचल में रविवार से हो रही बारिश ने जमकर कहर बरपाया। वाराणसी और आसपास के जिलों में बड़ी संख्या में पेड़, मकान, बिजली के खंभे आदि धराशाई हो गए। गोरखपुर-बस्ती मंडल के जिलों का यही हाल रहा। देवरिया और कुशीनगर में कई स्थानों पर सड़कों पर पानी भर गया है। आवागमन के लिए भारी संकट पैदा हो गया है। इस दौरान फसलों को भी व्यापक क्षति हुई है। बारिश से जुड़ी घटनाओं में गाजीपुर में चार, बलिया तीन, देवरिया व जौनपुर में दो-दो, भदोही, मऊ, सोनभद्र व आजमगढ़ में एक-एक व्यक्ति समते कम से कम 15 लोगों की जान गई। मौसम विज्ञानी इसे फिलिन के प्रभाव से होने वाली बारिश बता रहे हैं।

चंदौली में तूफानी हवा व वर्षा से सैकड़ों पेड़ उखड़ गए। खंभों के गिरने से बिजली आपूर्ति ठप है। जौनपुर में कई मकान और पेड़ जमींदोज हो गए। तूफान के चलते यातायात व्यवस्था ध्वस्त रही वहीं तार-खंभों के गिरने से विद्युत आपूर्ति अब भी बाधित है। सबसे अधिक क्षति फसलों को हुई हैं। कृषि उपनिदेशक के अनुसार लगभग चार करोड़ की फसल बर्बाद हुई है।

गाजीपुर के ग्रामीण क्षेत्रों में मौसम ने किसानों की कमर तोड़कर रख दी है। धान, ज्वार, बाजरा के साथ सब्जी की फसल बर्बाद हो गई। मीरजापुर के वासलीगंज मोहल्ले में दो पेड़ धराशायी हो गए जिससे दो युवक घायल हो गए। कोन ब्लाक में 33 हजार वोल्टेज की जगह 40 हजार वोल्टेज करेंट से विद्युत आपूर्ति तीन दिन से ठप है। राजगढ़ व पड़री में भी कई स्थानों पर खंभे पर पेड़ गिर जाने से आपूर्ति ठप हो गई। इलाहाबाद-मुगलसराय रेल प्रखंड पर ट्रेनों का परिचालन प्रभावित रहा। बलिया में सैकड़ों पेड़ व विद्युत खंभे धराशायी हो गए जिससे बिजली व्यवस्था छिन्न-भिन्न हो गई। पेड़ों की चपेट में आने से तीन लोग काल के गाल में समा गए। भदोही पेड़ व खंभे घ्वस्त होने से कई क्षेत्रों की बिजली आपूर्ति प्रभावित हुई है। फसलों को भी व्यापक से नुकसान पहुंचा है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021