Move to Jagran APP

Lalitpur News: एक युवक ने ट्रेन से कटकर, तो दूसरे ने फाँसी लगाकर दी जान

कोतवाली अंतर्गत मुहल्ला पिसनारी मास्टर कॉलनि निवासी अंशुल खटीक उर्फ राजा (32) पुत्र बृंदावन खटीक 10 जनवरी को किसी काम के चलते घर से निकला था शाम तक वापस नहीं लौटा तो परिजनों ने उसकी खोजबीन शुरू की इस दौरान पता चला कि सिलगन रेलवे लाइन अज्ञात युवक का शव पड़ा है जिस पर परिजन मौके पर पहुंचे तो मृतक की शिनाख्त अंशुल के रूप में कर ली गई।

By Jagran News Edited By: Paras PandeyFri, 12 Jan 2024 06:30 AM (IST)
एक युवक ने ट्रेन से कटकर, तो दूसरे ने फाँसी लगाकर दी जान

ललितपुर, ब्यूरो। कोतवाली क्षेत्र के अलग-अलग इलाकों में रहने वाले दो युवकों ने बीती रात आत्महत्या कर ली, एक युवक ने ट्रेन से कटकर अपनी जान दे दी तो दूसरे फाँसी के फन्दे पर झूलकर अपने प्राण गवाँ दिए।

पत्नी से कहासुनी के बाद उठाया कदम

कोतवाली अंतर्गत मुहल्ला पिसनारी मास्टर कॉलनि निवासी अंशुल खटीक उर्फ राजा (32) पुत्र बृंदावन खटीक 10 जनवरी को किसी काम के चलते घर से निकला था, शाम तक वापस नहीं लौटा तो परिजनों ने उसकी खोजबीन शुरू की, इस दौरान पता चला कि सिलगन रेलवे लाइन अज्ञात युवक का शव पड़ा है, जिस पर परिजन मौके पर पहुंचे तो मृतक की शिनाख्त अंशुल के रूप में कर ली गई।

बताया जाता है कि बीते रोज अंशुल और उसकी पत्नी के बीच किसी बात को लेकर कहासुनी हो गई, जिसके बाद वह कुछ देर बाद वापस आने की बात कहकर घर से निकला था, जिससे अनुमान लगाया जा रहा है कि आपसी कहासुनी के चलते उसने यह कदम उठाया है। मृतक दो भाई एक बहन में छोटा था।

शराब के नशे में फन्दे पर झूला मजदूर

सदर कोतवाली की रिपोटिंग चौकी राजघाट अंतर्गत ग्राम टौरिया निवासी बृजलाल (30) पुत्र दुर्जन सहरिया बीती रात वह शराब के नशे में घर लौटा और खाना खाकर बाहर निकल गया। काफी देर तक वह वापस नहीं लौटा तो पत्नी चांदनी उसे तलाश करते हुए बगल वाले कमरे में पहुंची, जहां उसका पति मियारी पर रस्सी से बने फांसी के फन्दे पर लटक रहा था।

उसने हंसिया से फन्दा काट दिया और बाहर निकलकर बस्ती वालों को बुलाकर घटना की जानकारी दी, इसके बाद मुहल्लेवासि उसे टैक्सि में रखकर इलाज के लिए जिला अस्पताल पहुंचे, जहाँ चिकित्सकों ने परीक्षण के बाद उसे मृत घोषित कर दिया। मृतक के माता-पिता और बड़े भाई की मृत्यु हो चुकी थी, वह मजदूरी करके दो पुत्री एवं एक पुत्री का भरण पोषण कर रहा था।