मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

ललितपुर ब्यूरो:

प्रादेशिक चिकित्सा सेवा संघ (पीएमएस) ने चिकित्सक प्रोन्नति तथा वेतन भत्तों के मुद्दों पर आरपार की लड़ाई का मूड बना लिया है। सोमवार को प्रदेशीय आह्वान पर पीएमएस पदाधिकारियों ने मुख्यमन्त्री को सम्बोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपकर माँगों को पूर्ण किए जाने की माँग की।

प्रोन्नति तथा वेतन भत्तों के मुद्दों को लेकर प्रदेशीय आह्वान पर पीएमएस जनपद अध्यक्ष डॉ. मुकेश चन्द्र दुबे एवं सचिव डॉ. डीके राज के नेतृत्व में सोमवार को चिकित्सकों के दल ने मुख्यमन्त्री को सम्बोधित ज्ञापन जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह को देकर माँगों को पूरा किए जाने की माँग की। पीएमएस की माँग है कि सातवें वेतन आयोग के क्रम में प्राप्त मूलवेतन का 36 प्रतिशत प्रैक्टिस बन्दी भत्ता 01 जनवरी 2016 से तत्काल दिया जाए। वर्षो से लम्बित विभागीय प्रोन्नति की प्रक्रिया पूर्ण की जाए। विशेषज्ञ चिकित्सकों को उनकी विशेषज्ञता के अनुसार वेतन व भत्ते उपलब्ध कराए जाएं। पोस्टमार्टम का भत्ता प्रति केस 100 से बढ़ाकर 2000 रुपये किया जाए। वाहन भत्ता नोडल प्राधिक रण की तरह दिलाया जाए। दंत संवर्ग के चिकित्सकों को भी विशिष्ट एसीपी का लाभ 01 दिसम्बर 2008 से दिया जाए। कार्य के घण्टे निर्धारित किए जाएं तथा राजपत्रित अवकाश में केवल इमरजेन्सी सेवायें ही लागू रखी जाएं। वर्ष 1990-92 में तदर्थ रूप से नियुक्त लगभग 1000 चिकित्सकों को नियुक्ति की तिथि से सभी परिणामी लाभ दिए जाएं। सेवानिवृत्ति की आयु 60 से बढ़ाकर 62 की जाए। स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति के अधिकार को कायम रखते हुए सभी लम्बित आवेदनों को तत्काल निस्तारित किया जाये। मारपीट की घटनाओं पर प्रभावी नियन्त्रण के लिए आवश्यक सुरक्षा व्यवस्था चिकित्सा इकाइयों में कायम की जाए, साथ ही सेवानिवृत्त सैन्य कर्मियों को हथियार सहित सुरक्षा की जिम्मेदारी तय की जाए। चिकित्साधिकारी के विरुद्ध लम्बित जाँचें 6 माह में निस्तारित की जाएं तथा इससे अधिक समय व्यतीत होने पर उनको निर्दोष समझा जाए। ज्ञापन देते समय जिला चिकित्सालय के वरिष्ठ फिजीशियन डॉ. अमित चतुर्वेदी, इएनटी सर्जन डॉ. राकेश दत्त, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. जेएस बख्शी, डॉ. डीसी दोहरे आदि शामिल रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप