ललितपुर ब्यूरो :

पूर्व केन्द्रीय मन्त्री प्रदीप जैन आदित्य रविवार 9 सितम्बर को नगर कांग्रेस अध्यक्ष हरीबाबू शर्मा के आवास पर मीडियाकर्मियों से रूबरू हुये। इस दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी की तुलना राष्ट्रपिता से किये जाने को लेकर तीखी नाराजगी व्यक्त की तो वहीं डीजल-पेट्रोल की बढ़ती कीमतों पर भी प्रधानमंत्री की जमकर खिंचाई दी। पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के विरोध में काँग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व के भारत बंद के आह्वान पर जनपदवासियों से सहयोग की अपील भी की है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री खुद को सामान्य परिवार का बताते हैं और उनके समर्थक उनकी तुलना राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी से करते है जबकि राष्ट्रपिता व प्रधानमंत्री के परिवेश से स्पष्ट कि हाथी के दाँत खाते के और खाने के और है। एक प्रश्रन् के जवाब में उन्होंने कहा कि नोटबंदी से कारपोरेट और उद्योग जगत को लाभ हुआ। गरीब व्यक्ति कतार में खड़ा होकर मरता रहा। देश का दुर्भाग्य है कि अंतिम व्यक्ति जिसकी दिनचर्या डीजल व पेट्रोल से जुड़ी है, उसकी कमर तोड़कर रख दी गई है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जब गुजरात के मुख्यमंत्री थे तब वह कहते थे कि रुपया अस्पताल में भर्ती है। डॉलर के सामने रुपया लड़खड़ा रहा है, लेकिन अब वह इस मुद्दे पर चुप्पी साधे बैठै है। पेट्रोल-डी़जल की मूल्य वृद्धि पर रोक लगाने के लिये 10 सितम्बर को केन्द्र सरकार को चेताने के लिये एक साथ मिलकर विरोध करे। वह एससी/एसटी ऐक्ट में किये गये संशोधन के पक्ष या विरोध में रहने के प्रश्न पर कुछ भी स्पष्ट कहने से बार-बार बचते नजर आये। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में भाजपा की हालत खराब होती जा रही है। कैराना, फूलपुर, व सीएम के क्षेत्र गोरखपुर उपचुनाव में भाजपा को करार हार मिली है। इस दौरान कंँग्रेस जिलाध्यक्ष दुर्गाप्रसाद कुशवाहा, नगर काग्रेस अध्यक्ष हरीबाबू शर्मा भी मौजूद रहे।

::

बॉक्स-

::

पार्षदों के गोवा टूर पर जताई आपत्ति

नगरपालिका परिषद में जिन जनप्रतिनिधियों को जनता ने चुनकर भेजा है आज वह विषम परिस्थितियों में उनके साथ खड़े न होकर गोवा के टूर पर है। इस पर पूर्व केन्द्रीय मन्त्री प्रदीप जैन ने भी तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। मीडिया के सवालों का जवाब देते हुये उन्होंने कहा कि बारिश का मौसम चल रहा है और गोविन्द सागर बाँध से लगातार पानी छोड़ा जा रहा है। लिहाजा विषम परिस्थतियों में पार्षदों को मुख्यालय पर ही रहना चाहिये, लेकिन वह गोवा की सैर कर रहे है जो अनुचित है।

Posted By: Jagran