बीए/बीएससी में विद्यार्थियों ने लगाये मूल्याँकन में लापरवाही के आरोप

ललितपुर ब्यूरो :

हाल ही में बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय द्वारा घोषित परीक्षा परिणाम का विरोध थमने का नाम नहीं ले रहा है। बीते रोज जहाँ विभिन्न महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं ने कलेक्टरेट में विरोध प्रदर्शन किया था तो वहीं गुरुवार को छात्र-छात्राओं ने मुख्यमन्त्री के नाम जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा, जिसमें बीए/बीएससी प्रथम व द्वितीय वर्ष की उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्याँकन में लापरवाही बरते जाने का आरोप लगाया गया। ज्ञापन में कहा गया कि किसी विद्यार्थी को शून्य तो किसी को 1 या 2 अंक दिये गये। उन्होंने पुन: मूल्याँकन कराने की माँग की।

हाल ही में बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय द्वारा परीक्षा परिणाम घोषित किया गया। इस बार जनपद के अधिकाँश महाविद्यालयों का परीक्षा परिणाम काफी निराशाजनक रहा है। परीक्षा परिणाम में आई अचानक गिरावट को छात्र-छात्रायें कॉपी जाँचने वालों की त्रुटि मान रहे है। इसी के चलते बीते रोज विभिन्न कॉलिजि़जं के छात्र-छात्राओं ने कलेक्टरेट में प्रदर्शन कर जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा था। इसी क्रम में गुरुवार को छात्र-छात्राओं ने मुख्यमन्त्री को सम्बोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा। ज्ञापन में कहा गया कि वर्ष 2017-18 में बीए/बीएससी प्रथम व द्वितीय वर्ष की परीक्षा का परिणाम घोषित किया गया, जिसमें अधिकतर छात्र-छात्राओं को फेल कर दिया गया तथा कई विद्यार्थियों को तो शून्य अंक दिये गये, जबकि कई विद्यार्थियों को 1, 2, 3, 4 व 5 अंक दिये गये। ज्ञापन में आरोप लगाया गया कि उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्याँकन सही ढग से नहीं किया गया, जिसके चलते बड़ी संख्या में विद्यार्थी फेल हो गये। ज्ञापन में छात्र-छात्राओं के भविष्य को ध्यान में रखते हुये उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्याँकन दोबारा कराये जाने का अनुरोध किया गया। ज्ञापन देने वालों में उमा रजक, सोनू, शिवानी, आकाँक्षा, रानी, रोशनी, रूचि, विद्या देवी, शुभि दुबे, प्रिंसी राजा, आयुषी, अनिरुद्ध सिंह, मनीष कुमार, अनिल कुमार, अर्चना रावत, रश्मि, चन्द्र पाल सिंह, इंद्रजीत सिंह, गौरव, मानवेन्द्र, वीरेन्द्र, रामकुमार शामिल रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस