फोटो : 6 बीकेएस 2

:::

0 राज्यमन्त्री बाबूराम निषाद ने विपक्ष पर किया प्रहार

झाँसी : उपचुनावों में मिली हार के बाद भाजपा ने मान लिया है कि गठबन्धन की ताकत समझने में पार्टी से चूक हो गई। राज्यमन्त्री बाबूराम निषाद ने कहा- यह बेमेल गठबन्धन चलने वाला नहीं और लोकसभा चुनाव में प्रधानमन्त्री मोदी के नेतृत्व में एक बार फिर भाजपा सरकार बनाएगी।

सर्किट हाउस में पत्रकारों से वार्ता करते हुए उप्र पिछड़ा वर्ग वित्त विकास निगम के अध्यक्ष दर्जाप्राप्त राज्यमन्त्री बाबूराम निषाद ने कहा कि जातिवादी, सामन्तवादी, भ्रष्टाचारी व तुष्टीकरण की राजनीति करने वाले दलों ने जो बेमेल गठबन्धन किया है, वह भाजपा के सामने नहीं टिक पाएगा। जनता भी इन्हें सबक सिखा देगी। उपचुनावों में मिली हार के बाद मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व पर उठ रहे सवालों पर राज्यमन्त्री ने कहा- योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में प्रदेश प्रगति की राह पर आ गया है। उन्होंने जनता के लिए कई हितकारी योजनाएँ शुरू की हैं। इस अवसर पर महापौर रामतीर्थ सिंघल, महानगर अध्यक्ष प्रदीप सरावगी, जेपी साहू, राजकान्तेश वर्मा, प्रियांशु डे आदि उपस्थित रहे।

निगम को ़िजन्दा करने की कोशिश

पिछड़ा वर्ग वित्त विकास निगम के अध्यक्ष बाबूराम निषाद ने कहा कि वर्ष 2012 के बाद सरकारों ने निगम की उपेक्षा की। योजनाएँ फ्लॉप हो गई और वसूली भी शून्य हो गई, जिससे निगम डिफॉल्टर हो गया। 27 अप्रैल को निगम का चार्ज सँभालने के बाद अगले ही दिन उन्होंने मुख्यमन्त्री से वार्ता की। मुख्यमन्त्री ने कहा कि प्रदेश की 54 प्रतिशत आबादी पिछड़ी है, जिसमें 30 प्रतिशत तो अति पिछड़े हैं। इन्हें निगम की योजनाओं से लाभान्वित किया जाएगा। राज्यमन्त्री ने बताया कि सरकार से 61 करोड़ रुपयों की माँग की गई है, ताकि राष्ट्रीय वित्त विकास निगम का बकाया चुकता कर नया ऋण लिया जा सके।

'एक जनपद-एक उत्पाद' योजना भी निगम से जुड़ेगी

प्रदेश सरकार ने बेरो़जगारों को रो़जगार से जोड़ने के लिए 'एक जनपद-एक उत्पाद' योजना शुरू की है। इसके तहत प्रत्येक जनपद के लिए एक उत्पाद तय किया गया है, जिसे प्रोत्साहित किया जाएगा। झाँसी को टेडिवेयर के लिए चुना गया है। राज्यमन्त्री ने बताया कि योजना को निगम से जोड़कर अतिपिछड़ी जाति के हुनरमन्द लोगों को प्रोत्साहित किया जाएगा।

निगम का इतिहास

वर्ष 1992 में उप्र पिछड़ा वर्ग वित्त विकास निगम का गठन किया गया था। राष्ट्रीय वित्त विकास निगम के माध्यम से 70 करोड़ रुपए सस्ती ब्याज दर पर उपलब्ध कराए। निगम द्वारा मार्जिन मनी, महिलाओं की विशेष समृद्धि योजना कर्मलोन, ठेला-ठिलिया योजना आदि संचालित कीं। पर, सरकारों की उपेक्षा और प्रबन्धन की लापरवाही के चलते बकाएदारों से वसूली नहीं हो पाई और 30 साल में ही निगम डिफॉल्टर हो गया। कई बकाएदारों के ख़्िाला़फ आरसी भी काटी गई है।

रायकवार समाज ने माँगा अनुसूचित जाति का दर्जा

रायकवार समाज के कार्यवाहक ़िजलाध्यक्ष अखिलेश रायकवार ने राज्यमन्त्री बाबूराम निषाद को पत्र देकर समाज की स्थिति से अवगत कराया। उन्होंने बताया कि निषाद, केवट, कश्यप, माझी, रायकवार आदि उपजातियों की सामाजिक व आर्थिक स्थिति दयनीय है। उन्होंने समाज को अनुसूचित जाति का दर्जा दिलाने की माँग की।

पेंशन के लिए अब वृद्धों की परेशानी घटी

झाँसी : वृद्धावस्था पेंशन के लिए ऑनलाइन आवेदन करने वाले वृद्धजनों को अब हार्ड कॉपी लेकर समाज कल्याण विभाग के चक्कर नहीं काटने होंगे। शासन ने व्यवस्था में परिवर्तन कर दिया है। मुख्य विकास अधिकारी निखिल टीकाराम फुण्डे ने बताया कि अभी ऑनलाइन आवेदन करने के बाद वृद्धजनों को हार्ड कॉपी ़िजला समाज कल्याण विभाग में जमा करानी पड़ती थी, लेकिन अब शहरी क्षेत्र के आवेदक उप ़िजलाधिकारी व ग्रामीण क्षेत्र के सम्बन्धित खण्ड विकास अधिकारी के कार्यालय में हार्ड कॉपी जमा करा सकते हैं।

फाइल : 3 : राजेश शर्मा

6 जून 2018

समय : 7.10

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस