लखीमपुर : यूपी बार काउंसिल के पूर्व चेयरमैन व उत्तर प्रदेश अधिवक्ता महासंघ के प्रान्तीय अध्यक्ष अजय कुमार शुक्ला ने प्रदेश में बढ़ रही अधिवक्ताओं की हत्या तथा दिल्ली में तीस हजारी कोर्ट में वकीलों पर गोली चलाने, प्रदेश में बढ़ रही हत्या की घटनाओं के विरुद्ध प्रदेश अधिवक्ता आठ नवंबर को विरोध दिवस मनाएंगे। बार कौंसिल उप्र के सदस्य एवं पूर्व चेयरमैन ने प्रदेश के सभी जिला एवं तहसील अधिवक्ता संघों से जिलाधिकारी एवं एसडीएम के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन देकर प्रभावी कार्रवाही की मांग करेंगे।

मोहम्मदी : बार एसोसिएशन ने आज बार सभागार में बैठक कर हड़ताल पर रहते हुए कई मांगों को लेकर गृहमंत्री को संबोधित ज्ञापन तहसीलदार विकास धर दुबे को सौंपा। ज्ञापन में कहा है कि विगत 2 नवम्बर को दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट के बाहर पुलिस द्वारा वकीलों पर बर्बरता पूर्ण कार्रवाई से अधिवक्ता समाज में काफी आक्रोश व्याप्त है। अधिवक्ताओं ने मांग की है कि पुलिस द्वारा चलाई गई गोली से गंभीर रूप से घायल अधिवक्ताओं को 50 लाख रुपये व अन्य घायल अधिवक्ताओं को 25 लाख रुपये मुआवजा दिलाया जाए। इस दौरान अध्यक्ष प्रद्युमन मिश्रा, महामंत्री अनुज सिंह पूर्व महामंत्री राजीव बाजपेई, मानस त्रिवेदी, कुलदीप सिंह, मनमोहन शुक्ला, विजय पांडेय, उदित शर्मा, सुरेश शुक्ला, अवनीश राठौर सहित तमाम अधिवक्ता मौजूद रहे।

निघासन : निघासन तहसील के वकील हड़ताल पर रहे। घटना को लेकर बुधवार को निघासन तहसील अधिवक्ता भवन में मीटिग की गई। दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में पुलिस ने वकीलों पर गोली चला दी थी। वकील व पुलिस विवाद में तीन वकीलों को गोली लगी और कई वकील घायल हुए हैं। इस दौरान उपाध्यक्ष अंबरीश श्रीवास्तव, मंत्री रवि गुप्ता, टीएल यादव, ब्रह्माप्रकाश, विवेक श्रीवास्तव, विनीत श्रीवास्तव, मो. अमीन, नवदीप सिंह, सोनेलाल, रमेश शर्मा, राजू गिरि, सर्वेश, महेश पांडेय, लवतिवारी, मो. शकील, उपेंद्र, हरिनंदन लाल यादव, राकेश वैश्य व राहुल गुप्ता, हरिओम, आत्माराम, आशीष कश्यप आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप