लख मपुर : उत्तर प्रदेश पॉवर कॉरपोरेशन निविदा व संविदा कर्मचारी संघ की बैठक विलोबी मेमोरियल ट्रस्ट के सभागार में हुई। बैठक की अध्यक्षता प्रदेश महामंत्री देवेंद्र कुमार पांडेय ने की। संचालन प्रदेश उपाध्यक्ष हर्षव‌र्द्धन ने किया। विद्युत विभाग के संविदा कर्मचारियों की ज्वलंत समस्याओं पर बैठक में चर्चा की गई। इस मौके पर जिला कार्यकारिणी का चुनाव भी किया गया। प्रदेश महामंत्री ने कहा कि जिले में संविदा कर्मचारियों को 8200 रूपये के स्थान पर वेतन के रूप में 6200 रुपये ही दिया जाता है। बैठक में यह भी आरोप लगाया गया कि कर्मचारियों से बाद में एक हजार रूपये प्रतिमाह बाद में वापस ले लिया जाता है। जो कर्मचारी यह धनराशि देने से मना करते हैं उन्हें कार्य से हटा दिया जाता है। ईपीएफ में करोड़ों रुपये के हो रहे घोटाले पर भी चर्चा की गई। वेतन से ईएसआई का पैसा काटने के बावजूद भी उसका लाभ न दिया जाना भी बैठक में चर्चा का मुद्दा बना रहा। बैठक में तय किया गया कि पावर कार्पोरेशन निविदा संविदा कर्मचारी संघ इन मामलों को लेकर न्यायालय की शरण में जाएगा और जरूरत पड़ी तो अधीक्षण अभियंता के कार्यालय का घेराव भी किया जाएगा। बैठक में प्रदेश उपाध्यक्ष ने कहा कि जब संविदा कर्मचारियों के पक्ष में कोई आदेश होता है तो तत्काल प्रभाव से लागू नहीं किया जाता। जबकि उत्पीड़नात्मक कार्रवाई तत्काल प्रभाव लागू कर दी जाती है। समान कार्य का समान वेतन देने के लिए न्यायालय में याचिका दाखिल की गई थी जिसमें संगठन के पक्ष में फैसला हुआ मगर उसे आज तक लागू नहीं किया गया।

Posted By: Jagran