जागरण संवाददाता, लखीमपुर : पूर्व केंद्रीय जितिन प्रसाद ने कहा कि 2019 में जिन्ना नहीं गन्ना चलेगा। किसान पहले तो दिन रात मेहनत करके अपने गन्ने की रखवाली करता रहा, जब गन्ना बिकने का समय आया तो किसानों को पर्चियों के लाले पड़ गए। पूर्व केंद्रीय मंत्री शनिवार को ये बातें कस्ता विधानसभा क्षेत्र के विभिन्न गांवों में जनसभाओं के दौरान कह रहे थे।

उन्होंने कहा कि किसानों बकाया गन्ना भुगतान नहीं हो पा रहा है और देश की भाजपा सरकार पाकिस्तान से चीनी का आयात कर रही है। केंद्र सरकार को देश के किसानों को यह बताना होगा कि किन परिस्थितियों में देश की चीनी को दरकिनार कर पाकिस्तानी चीनी को देश के लोगों को परोसा जा रहा है। अगर हमारे देश में चीनी की कमी होती तो कहीं से भी चीनी खरीदी जा सकती थी। जो पाकिस्तान दिन रात हमारे देश के सैनिक एवं नागरिकों की हत्याएं करने की फिराक में रहता है, ऐसे देश से चीनी खरीदकर उसकी आर्थिक स्थित को मजबूत करना कहां की समझदारी है। कहा, किसानों की फसल को अवारा पशु नुकसान पहुंचा रहे हैं। इन जानवरों से सभी किसान त्रस्त हैं। सरकार के लोग एसी में बैठे सिर्फ कागजों पर किसानों के हितों की बात कर रहे हैं।

पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद ने ग्राम नगरा, भीखमपुर, डोकरपुर, लक्ष्मननगर, रामपुर, बंधिया, जगना, परसेहरा, फत्तेपुर, कल्लुआमोती में सभाओं को संबोधित किया। इस दौरान उनके साथ कस्ता विधानसभा प्रभारी सुजीता कुमारी, नवीन पांडेय, विनीत मिश्रा, डॉ. बाबू लाल गुप्ता, रामनरेश वर्मा, रामसागर मिश्रा, संत किशोर, चंद्रप्रभा अवस्थी, विजय पाल, प्रहलाद पटेल आदि रहे।

Posted By: Jagran