लखीमपुर : मुरादाबाद मंडल के आइजी व लखनऊ मंडल के नोडल अधिकारी अमित चंद्रा ने भारत-नेपाल सीमा के गौरीफंटा बॉर्डर का रविवार को जायजा लिया। उन्होंने बॉर्डर का निरीक्षण किया और एसएसबी अधिकारियों के साथ वार्ता कर उनको सतर्क रहने के निर्देश दिए। उन्होंने राम मंदिर के शिलान्यास को लेकर जारी अलर्ट की भी समीक्षा की।

नोडल अफसर अमित चंद्रा दोपहर करीब 12 बजे बॉर्डर पहुंचे और सबसे पहले उन्होंने बॉर्डर का निरीक्षण किया तथा वहां की भौगोलिक स्थिति को जाना। इसके बाद उन्होंने एसएसबी अधिकारियों के साथ बैठक कर वस्तुस्थिति जानी। पांच अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर का शिलान्यास किए जाने को लेकर सीमा की सुरक्षा व्यवस्था व सीमा पार की गतिविधियों का आंकलन किया। उन्होंने बैठक में एसएसबी अधिकारियों से कहा कि सरकार ने बाहरी अराजकतत्वों के सीमा से प्रवेश कर उत्पात मचाने को लेकर अलर्ट जारी किया है तो उसे लेकर सब लोग सतर्क रहे और बॉर्डर सील होने के बाद किसी को भी आने जाने न दें। इसके अलावा यदि कोई इमरजेंसी में आता जाता है तो उसकी सघन तलाशी ली जाय और बिना पहचानपत्र के तो किसी भी दशा में न आने दिया जाय। इसके बाद उन्होंने पांच अगस्त को लेकर की गई सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा की साथ ही और अधिक सतर्क रहने को कहा जिससे अराजकतत्व किसी घटना को अंजाम न दे सकें। बॉर्डर पर हुई बैठक में 39 बटालियन एसएसबी कमांडेंट मुन्ना सिंह, उपेंद्र सिंह, सहायक कमांडेट गौरीफंटा, सीओ कुलदीप कुकरेती व कोतवाली प्रभारी रमेश चंद्र यादव शामिल थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस